-वार्ड ब्वॉय और केयर को-ऑर्डिनेटर के दिए अप्वॉइंटमेंट लेटर

-एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने शुरू की जांच

<द्गठ्ठद्द>क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ<द्गठ्ठद्दद्गठ्ठस्त्र> :

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में वार्ड ब्वॉय की फर्जी रिक्तियां और अपॉइंटमेंट लेटर जारी करने के मामले में सीएमओ ने थर्सडे को कोतवाली में एफआईआर दर्ज करा दी है.ठगों ने वार्ड ब्वॉय और केयर को-ऑर्डिनेटर के नाम से रिक्तियां निकाल कर बेरोजगारों से ठगी की है. ठगों ने उन्हें फर्जी अप्वॉइंटमेंट लेटर भी थमा दिए. लेटर पर सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ला के फर्जी हस्ताक्षर और मुहर के साथ जिला अस्पताल की मुहर भी लगा दी थी. जब इसी तरह का एक लेटर सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ला के पास पहुंचा तो वह दंग रह गए. सीएमओ ने फर्जीवाड़ा करने वाले शातिरों पर एफआईआर दर्ज करा दी है.

ऐसे पकड़ में आया मामला

23 अगस्त को सीएमओ डॉक्टर विनीत शुक्ला के पास व्हाट्सएप पर रामपुर डिस्ट्रिक्ट के नई बस्ती शाहबाद मोहल्ला फर्राशान निवासी विवेक शर्मा नाम का फर्जी अप्वॉइंटमेंट लेटर वार्ड ब्वॉय पद का मिला. जिस पर सीएमओ के फर्जी हस्ताक्षर और मुहर के साथ जिला अस्पताल की गोल मुहर भी लगी हुई थी. सीएमओ ने बताया कि लेटर को देखते ही पहचान लिया. जिसमें कई कमियंा थी.

इन कारणों से आया पकड़ में

-डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल की तरफ से रिक्तियां ही नहीं निकली

-लेटर पर सीएमओ की मोहर और पद नाम लिखा हुआ था. जबकि असली पर सीएमओ का नाम लिखा हुआ होता है उसी पर मुहर और सिग्नेचर होते हैं.

-पत्रांक संख्या अधिक अंक होना

-जिला अस्पताल की मुहर लगी होना

-अप्वॉइंटमेंट लेटर पर वार्ड ब्वॉय की सेलरी तीन हजार अधिक लिखी थी

-नियुक्त पत्र पर डीएम एसडीएम को सूचनार्थ लिखा होना

-नियुक्त शासन या फिर विभाग स्तर से होती है लोकल स्तर से नहीं

एक और मामले में आया फोन

इसी बीच सीएमओ के पास एक सत्ताधारी विधायक का भी फोन पहुंचा. जिसमें उन्होंने पूछा कि क्या आपके हॉस्पिटल में केयर को-ऑर्डिनेटर पद पर रिक्तियों के लिए इंटरव्यू हुए हैं. जिस पर सीएमओ ने साफ इनकार कर दिया. सीएमओ ने यहां तक बताया कि उनके यहां से कोई रिक्तियां निकाली ही नहीं गई और न डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में कोई केयर को-ऑर्डिनेट का पद.

===

फर्जी अप्वॉइंटमेंट लेटर जारी करने वाले के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी है. पुलिस मामले की जांच कर फर्जीवाड़ा करने वाले को तलाश कर रही है.

डॉ. विनीत शुक्ला, सीएमओ बरेली