- मेले के दौरान बड़े वाहनों को इलाहाबाद में घुसने की नहीं होगी छूट

- आयोजन स्थल से 20 किमी. पहले ही रोक दिए जाएंगे सभी बड़े वाहन

- 15 जनवरी से इलाहाबाद में शुरू होगा सबसे बड़ा मेला कुंभ

- वाहनों के लिए आउटर एरिया में भी बनाई जा रही पार्किंग, यहीं से मिलेंगी बसें

- रोडवेज की बसों में बैठ कर श्रद्धालु इलाहाबाद में कर सकेंगे फ्री सफर

- श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए लगाई जाएंगी साधारण, सीएनजी और एसी बसें

sanjeev.pandey@inext.co.in

LUCKNOW:

इस बार कुंभ में यात्रियों को रोडवेज बसों में फ्री सफर की सुविधा मिलेगी. इलाहाबाद के बाहर उतरने वाले यात्रियों को आयोजन स्थल तक पहुंचाने के लिए परिवहन निगम अपनी बसें लगाएगा, जिसमें यात्रियों से कोई पैसा नहीं लिया जाएगा. निगम ने इसको लेकर शासन के पास प्रस्ताव भेजा है.

जोर-शोर से चल रही तैयारियां

परिवहन निगम के अधिकारियों के अनुसार इलाहाबाद में 15 जनवरी से शुरू होने वाले कुंभ मेले की तैयारियां जोरों पर हैं. इसमें आने वाले श्रद्धालुओं को विशेष बस सेवा उपलब्ध कराई जाएगी. विभिन्न प्रदेशों से आने वाली बसों को आयोजन स्थल से काफी पहले रोक दिया जाएगा. वाहनों के लिए भी आउटर एरिया में पार्किंग तैयार की जा रही है. यहां से निगम की बसें लोगों को आयोजन स्थल तक ले जाएंगी.

हर रूट पर अस्थाई बस अड्डा

विभागीय अधिकारियों के अनुसार इलाहाबाद आने वाले सभी मार्र्गो पर अस्थाई बस अड्डे बनाए जा रहे हैं. यह अस्थाई बस अड्डे आयोजन स्थल से करीब 25 किमी पहले बनाए जाएंगे. इन जगहों पर ही पार्किंग की व्यवस्था भी होगी. आयोजन स्थल पर परिवहन निगम की शटल बस सेवा उपलब्ध रहेगी. इन बसों से श्रद्धालुओं को आयोजन स्थल या शहर के अंदर वे जहां जाना चाहते हैं, वहां भेजा जाएगा. सेवा पूरी तरह फ्री होगी.

बनेंगे सात अस्थाई बस अड्डे

परिवहन निगम ने फिलहाल सात जगहों पर अस्थाई बस अड्डे बनाने की योजना तैयार की है. इनमें झूंसी, केपी कॉलेज, फाफामऊ, संत निरंकारी कैंपस अंडावा, विल दुर्जनपुर सासो रोड, ओमेक्स सिटी, अरैल और ऑफिसर्स कैंप परेड ग्राउंड शामिल हैं. इन जगहों से परिवहन निगम की आने वाली नई बस सेवा शटल के रूप में चलाई जाएगी.

बेड़े में शामिल बसें

साधारण - 650 बसें

सीएनजी - 250 बसें

एसी - 100 बसें

प्रस्ताव भेजा गया है कि कुंभ मेला के दौरान चलने वाली शटल बस सेवा में यात्रियों से किसी तरह का शुल्क ना लिया जाए. इससे भीड़ को कंट्रोल करने में आसानी होगी. कुंभ के दौरान शहर में सफर करने वालों को भी इसका लाभ मिलेगा.

पी गुरु प्रसाद, प्रबंध निदेशक

यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम