--मुख्यमंत्री आज करेंगे श्रावणी मेले का उद्घाटन

--दिव्यांगों, महिलाओं, बुजुर्गो के लिए नि:शुल्क बस चलाएगी सरकार, सीएम आज दिखाएंगे हरी झंडी

-जसीडीह से देवघर और देवघर से वासुकीनाथ धाम के बीच चलेगी बस

- श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए किए गए पर्याप्त इंतजाम, सुरक्षा भी पुख्ता

देवघर से वासुकीनाथ धाम के बीच जल्द ही फोरलेन सड़क बनेगी

रांची : श्रावणी मेले के दौरान सरकार दिव्यांगों, महिलाओं, बुजुर्गो के लिए निश्शुल्क बस की सेवाएं मुहैया कराएगी. जसीडीह से देवघर और देवघर से वासुकीनाथ धाम के बीच श्रद्धालुओं को यह सेवा मिलेगी. मेले के दौरान ऐसी 25 बसें चलाने की व्यवस्था की जाएगी. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शुक्रवार झारखंड मंत्रालय में मीडिया से औपचारिक बातचीत में यह घोषणा की. मुख्यमंत्री शनिवार को श्रावणी मेले का उद्घाटन करेंगे. इस दौरान वे कुछ बसों को सांकेतिक रूप से हरी झंडी दिखाकर निश्शुल्क बस सेवा का भी शुभारंभ करेंगे.

सांस्कृतिक टूरिज्म को बढ़ावा

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि बाबाधाम देवनगरी 12 ज्योतिर्लिग में एक मनोकामना लिंग के रूप में स्थापित हो. इस बार राज्य सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार प्रसार का निर्णय लिया है ताकि सांस्कृतिक टूरिज्म को बढ़ावा दिया जा सके. उन्होंने कहा कि देवघर में क्यू कांप्लेक्स के प्रथम चरण का कार्य पूरा हो गया है जिसके द्वारा जलार्पण के लिए रूट लाईनिंग का कार्य इस श्रावणी मेला में होगा. उन्होंने घोषणा की कि श्रावण के बाद क्यू कांप्लेक्स के दूसरा चरण का कार्य प्रारम्भ किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि देवघर से वासुकीनाथ धाम तक सांस्कृतिक टूरिज्म को बढ़ावा दिया जाएगा. श्रावणी मेला का प्रचार-प्रसार पूरे देश में किया जा रहा है. सीएम ने कहा कि देवघर से वासुकीनाथ धाम के बीच जल्द ही फोरलेन सड़क का निर्माण किया जाएगा. कांवरियों के चलने के लिए महीन बालू पथ बनाया जाएगा.

------------

सूचना केंद्र बनाए जाएंगे

श्रावणी मेले के दौरान श्रद्धालुओं को जानकारी देने के लिए रांची एयरपोर्ट के साथ-साथ रांची, जमशेदपुर और धनबाद रेलवे स्टेशन में सूचना केंद्र स्थापित किए जाएंगे. इसके अलावा पड़ोसी राज्यों की राजधानी में भी सूचना केंद्र स्थापित किए जाएंगे. सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से राज्य के प्रमुख जिलों के मंदिरों में भी सूचना केंद्र स्थापित किए जाएंगे.

-----------

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सभी मंत्रियों को न्योता

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सभी केंद्रीय मंत्रियों, राज्यों के राज्यपाल और मुख्यमंत्रियों को देवघर आने का आमंत्रण दिया है. सीएम ने बताया कि राष्ट्रपति ने स्वयं बाबाधाम आने की इच्छा जताई थी.

------------

श्रावणी मेले में की गई व्यवस्था

- श्रद्धालु जैसे ही दुमका से देवघर की ओर प्रवेश करेंगे उन्हें ऊँ नम: शिवाय का संगीत सुनाई देगा.

- श्रावणी मेला पूर्णत: श्रद्धालुओं के डोमेन में रहेगा. उन्हें कोई भी परेशानी होने पर वे @स्त्रड्डह्यह्मड्डद्दद्धह्वढ्डड्डह्म पर ट्वीट कर अपनी परेशानी बता सकेंगे जिसका तुरंत समाधान किया जाएगा.

- मेले के दौरान मुख्यमंत्री श्रद्धालुओं से सीधी वार्ता भी करेंगे और उनके अनुभव भी सुनेंगे.

- देवघर में 2500 श्रद्धालुओं की तथा वासुकीनाथ धाम में 1000 श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए टेंट सिटी की व्यवस्था की गई है.

- बाघमारा और कोठिया में 1000 तथा जसीडीह में 500 और वासुकीनाथ धाम में 1000 श्रद्धालुओं के ठहरने की सुविधा टेंट सिटी में दी जा रही है.

- मेले में चढ़ावे के बाद प्राप्त बेलपत्रों, फूलों आदि को सालिड वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम के तहत प्रोसेस कर दिया जाएगा.

- मंदिर परिसर में सटे सुविधा भवन में अस्थाई ट्रामा सेंटर की सुविधा दी गई है. स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए 100 चिकित्सक, 250 मेडिकल स्टाफ एवं 20 एंबुलेंस की व्यवस्था की गयी है.

- श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखते हुए 12,000 पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति मेला क्षेत्र में की गई है.

- मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं को गर्मी से राहत दिलाने के लिए 95 प्वाइंट पर इंद्र वर्षा की व्यवस्था की गई है.

- श्रद्धालुओं के मनोरंजन के लिए 41 एलईडी आउटडोर डिस्प्ले स्क्रीन तथा कई सांस्कृतिक मंच बनाए गए हैं.