- सोशल मीडिया पर भी जमकर फूटा गुस्सा

- विराट की सेना को लेकर कसे गए तरह-तरह के तंज

मेरठ. रविवार को हुए आईसीसी चैपियंस ट्रॉफी के लिए लंदन के ओवल स्टेडियम में बहुप्रतीक्षित भारत-पाक महामुकाबले में भारतीय टीम की हार के बाद शहर में क्रिकेट प्रेमियों का गुस्सा जमकर फूटा. विराट सेना का पहले से ही शर्मसार करने वाला प्रदर्शन देख लोगों ने मैच खत्म होने से पहले ही चैनल बदल दिए. बच्चों से लेकर बड़ों तक में निराशा फैल गई. वही सोशल मीडिया पर भी क्रिकेट प्रेमियों ने जमकर इंडिया टीम को लताड़ा.

घरों में होने लगी थी तैयारी

भारत-पाक के मैच को देखने के लिए जहां पूरा देश दो दिन पहले से ही तैयारी कर रहा था. वहीं रविवार सुबह से ही शहर में भी लोगों ने 2 बजे तक सारे काम निबटा लिए थे. यहां तक की महिलाएं भी काम खत्म कर 3 बजे से ही टीवी से चिपक गई थी. भारत के टॉस जीतने पर लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई, लेकिन विराट कोहली के पहले बॉलिंग करने के फैसले के साथ ही संशय की स्थिति बन गई थी. पाकिस्तान की तूफानी पारी के बाद भी भारतीय टीम से बंधी क्रिकेट प्रेमियों की आस 1 विकेट गिरने के बाद ही टूटने लगी थी. अंत तक आते-आते लोगों ने टीवी ही बंद कर दिए.

--------

सोशल मीडिया पर भी भड़के फैंस

टिवट्र, इंस्टाग्राम तक पर क्रिकेट प्रेमियों ने दो दिन पहले से ही भारत के जीतने का माहौल बना रखा था लेकिन जैसे ही भारतीय टीम जबरदस्त तरीके से मैच हारी फैंस का सब्र टूट गया. पोस्ट दर पोस्ट लोगों ने जहां मैच फिक्स होने तक की बात कह डाली वहीं शर्मनाक हार पर जमकर तंज भी कसे.

कुछ ऐसे कसे तंज

रविवार को फादर्स डे होने की वजह से फैंस ने भारत को बाप और पाक को बेटे तक बता दिया.

जिसके बाद और हार गया बाप, बाप ने बेटे को दिया तोहफा, बेटा जब लायक हो जाए तो बाप को झुकना पड़ता है जैसे जुमलें खूब चले.

--------

यह तो खेल है. टीम इंडिया ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी नहीं करने का जो निर्णय लिया, वही नुकसान का सबब बना. इस मैच ने हमें निराशा दी है.

-धीरज दीक्षित

क्रिकेट बड़बोलेपन से नहीं बल्ले और गेंद से खेला जाता है. खेल में हार जीत तो लगी रहती है. जहां तक आज के मैच का सवाल है तो शुरु से ही ऐसा लगा रहा था मैच फिक्स था.

-ललिता कौशिक

भारतीय टीम में अतिआत्मविश्वास आ गया था. ये हार इसी का नतीजा रहा. यह भी कह सकते हैं कि मैच फिक्स जैसा लग रहा था.

-आशीष अग्रवाल

यह पूरी तरह से सटोरिया गेम था. शुरुआत से ही लग रहा था. भारतीय टीम का इस तरह से हारना जहां बेहद शर्मनाक रहा वहीं खेल की डिग्निटी को भी संशय में डाल दिया है.

-संजय गौड़