- चुनाव को लेकर स्टूडेंट्स ने फिर काटा बवाल

- करीब 45 मिनट तक प्रदर्शन करते रहे छात्र

- पुलिस आने के बाद किसी तरह बाहर आ सके वीसी

GORAKHPUR: गोरखपुर यूनिवर्सिटी से चुनावी सरगर्मी खत्म ही नहीं हो पा रही है. यूनिवर्सिटी चुनाव कराने के मूड में नहीं है, जबकि स्टूडेंट्स छात्रसंघ चुनाव कराने की मांग को लेकर अड़े हैं. गुरुवार को एक बार फिर यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ चुनाव की मांग को लेकर स्टूडेंट्स ने खूब हंगामा किया. उन्होंने क्रीड़ा परिषद के एनुअल इवेंट में बतौर चीफ गेस्ट पहुंचे वीसी को क्रीड़ा परिषद भवन में करीब 45 मिनट तक बंधक बनाए रखा. इस दौरान छात्र लिखित आश्वासन की मांग पर अड़े रहे. पुलिस के हस्तक्षेप के बाद वीसी को वहां से निकाला जा सका.

दोपहर 12.30 पर शुरू हुआ हंगामा

गोरखपुर यूनिवर्सिटी में चुनाव की मांग को लेकर स्टूडेंट्स ने बुधवार को वीसी से मुलाकात करने की कोशिश की, लेकिन व्यस्तता के चलते उनसे मुलाकात नहीं हो सकी. गुरुवार को वीसी से मिलने के लिए छात्र राजीव यादव, शिवशंकर गौड़, पवन कुमार की अगुवाई में वह दोबारा वहां पहुंचे, लेकिन वीसी क्रीड़ा परिषद के समारोह में थे, जिससे उनकी मुलाकात नहीं हो सकी. काफी इंतजार के बाद करीब साढ़े 12 बजे छात्रों ने कैंपस की तरफ कूच कर दी. नारा लगाते हुए वह कैंपस में पहुंचे और हंगामा शुरू कर दिया.

कीड़ा परिषद भवन का चैनल किया बंद

कैंपस में पहुंचे छात्रों को पता चला कि वीसी क्रीड़ा परिषद भवन में मौजूद है, तो वह नारेबाजी करते हुए वहां पहुंच गए. इस दौरान उन्होंने क्रीड़ा परिषद भवन का चैनल बंद करना शुरू कर दिया. हो-हल्ला सुनकर मौके पर क्रीड़ा परिषद के अध्यक्ष हिमांशु चतुर्वेदी, सचिव विजय चहल और सुधीर श्रीवास्तव के साथ वहां मौजूद प्रॉक्टोरियल बोर्ड के मेंबर्स भी पहुंचे और उन्हें रोकने की कोशिश की. लेकिन बात नहीं बनी और छात्रों से तीखी नोंक-झोंक भी हुई. इसके बाद क्रीड़ा संघ अध्यक्ष ने प्रॉक्टर और पुलिस को इसकी जानकारी दी.

मांग पर डटे रहे छात्र

चीफ प्रॉक्टर प्रो. गोपाल प्रसाद और चौकी इंचार्ज भी पहुंचे. उन्होंने छात्रों को काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन बगैर लिखित आश्वासन के कोई भी लौटने को तैयार नहीं हुआ. इसके बाद सीओ कैंट प्रभात राय और इंस्पेक्टर कैंट रवि राय मौके पर पहुंच गए. उन्होंने पहले स्टूडेंट्स से बातचीत की, लेकिन वह अपनी मांगों पर अड़े रहे. फिर वीसी से मिलवाने का आश्वासन देकर पुलिस प्रशासन की मदद से उन्होंने किसी तरह वीसी को वहां से बाहर निकलवाया और एडी बिल्डिंग तक पहुंचाया.

नजाकत देखकर सरके स्टूडेंट्स

छात्रों के प्रतिनिधिमंडल को वीसी से मिलवाने के लिए एडी बिल्डिंग बुलवाया गया, लेकिन पुलिस ने कुछ देर में ही छात्रनेताओं को छोड़कर वहां मौजूद लोगों को एडी बिल्डिंग से बाहर जाने के लिए कह दिया. मौके पर मौजूद छात्रनेताओं के होश फाख्ता हो गए. उन्होंने वहां से सरकने में ही भलाई समझी और चंद ही मिनट में वहां से स्टूडेंट्स और बाहरी आदमियों के साथ ही छात्रनेता भी गायब हो गए. इस दौरान मौके पर पहुंचे चुनाव अधिकारी प्रो. ओपी पांडेय ने कहा कि छात्रों ने यूनिवर्सिटी के खिलाफ याचिका दायर कर दी है. अब बातचीत की कोई जरूरत नहीं है. जो कोर्ट का फैसला होगा, यूनिवर्सिटी वैसे ही आगे की कार्रवाई करेगी.

बॉक्स

टेंशन में आए खिलाड़ी

छात्रनेता जब वहां पहुंचे, तो उस दौरान यूनिवर्सिटी की एथलेटिक्स मीट चल रही थी. इस दौरान जब छात्रों ने नारेबाजी शुरू की तो वहां मौजूद खिलाड़ी टेंशन में आ गए. खासतौर पर यूनिवर्सिटी और उससे एफिलिएटेड कॉलेज की ग‌र्ल्स की टेंशन बढ़ गई. हंगामे के बीच कुछ देर तक इवेंट भी रुका रहा, लेकिन पुलिस पहुंचने के बाद जिम्मेदारों ने फिर से इवेंट शुरू करा दिया.