- होटल मालिक, बेटों द्वारा पिटाई से हुई थी युवक की मौत

- गोरखपुर देवरिया हाइवे पर एक घंटे ठप रहा आवागमन

GORAKHPUR: कैंट एरिया के रानीडीहा निवासी विजय कुमार उर्फ झीनू के मर्डर में मुकदमा दर्ज कराने के लिए पब्लिक सड़क पर उतर गई. मंगलवार की सुबह गोरखपुर-देवरिया रोड पर रानीडीहा के पास जाम लगाकर लोगों ने प्रदर्शन किया. भीड़ ने रोडवेज की अंडरटेकिंग बस का शीशा तोड़ दिया. सड़क पर बवाल की सूचना पर एसपी सिटी सहित भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा. आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करके पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. सिटी मजिस्ट्रेट ने पीडि़त परिवार को नियमानुसार मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया.

सफाई के लिए हुई थी पिटाई

रानीडीहा के विजय कुमार उर्फ झीनू के मां-बाप नहीं हैं. उसके दो बड़े भाई बाहर रहकर कमाते हैं. घर पर रहने वाला विजय कुमार बालू उतारने का काम करता था. 29 जुलाई की रात करीब नौ बजे रानीडीहा चौराहे पर वह भोजन करने पहुंचा. न्यू भोजनालय होटल में वह खाना खा रहा था. अचानक उसको उल्टी हाो गई. उल्टी होने पर सफाई की बात को लेकर होटल मालिक अनिल गुप्ता, उसके बेटे पिंटू और सोनू ने विजय कुमार की पिटाई कर दी. सिर में चोट लगने से घायल विजय को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया. सोमवार को डॉक्टर्स ने उसे लखनऊ रेफर कर दिया. रुपए का अभाव होने से परिजन उसे लेकर घर पहुंच गए. रात में करीब साढ़े 10 बजे उसकी मौत हो गई.

सड़क जाम करने पर हरकत में आई पुलिस

परिजनों ने डायल 100 को मामले की जानकारी दी. लेकिन किसी ने गंभीरता नहीं दिखाई. मंगलवार सुबह मुकदमा दर्ज कराने की बात को लेकर परिजन और मोहल्ले के सड़क पर उतर गए. पब्लिक का गुस्सा देखकर पुलिस बल बुला लिया गया. परिजनों ने मुकदमा दर्ज कराने के साथ मुआवजा दिलाने की मांग पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से की. हरकत में आई पुलिस ने होटल मालिक, उसके बेटों के खिलाफ केस दर्ज कर अनिल गुप्ता, सोनू और पिंटू को अरेस्ट कर लिया. पुलिस का कहना है कि विजय का बड़ा भाई शिव कुमार मुंबई में रहकर पेंट पॉलिश करता है. छोटा भाई संतोष भी मजदूरी करता है. विजय की दो बहनों रेखा और पूजा की शादी हो चुकी है. इसलिए उनको बाहर होटल में खाना पड़ता था.

वर्जन

युवक की डेड बॉडी सड़क पर रखकर जाम लगाने वालों को समझाया-बुझाया गया. हत्या के आरोप में केस दर्ज करके नामजद अभियुक्तों को अरेस्ट कर लिया गया है.

- विनय कुमार सिंह, एसपी सिटी