एक्सक्लूसिव

- सिटी के 21 सीबीएसई स्कूलों के एफिलिएशन का नहीं हुआ रिन्युअल, स्कूल प्रबंधन कह रहे फाइल लगाने की बात

GORAKHPUR: अगर आपका लाडला सीबीएसई स्कूल में पढ़ रहा है तो आपके लिए महत्वपूर्ण खबर है। क्योंकि गोरखपुर जिले के 99 सीबीएसई स्कूलों में 21 स्कूलों के एफिलिएशन 31 मार्च 2019 को समाप्त हो चुके हैं। यह हम नहीं बल्कि सीबीएसई बोर्ड की वेबसाइट के आंकड़े बयां कर रहे हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि इनमें से कुछ ही स्कूलों ने रिन्युअल के लिए बोर्ड में अप्लाई किया है। जबकि एक दर्जन स्कूलों की तरफ से अभी तक अप्लाई की प्रक्रिया भी नहीं अपनाई गई है। बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक अगर समय से रिन्युअल नहीं हुआ तो इन स्कूलों के खिलाफ पेनाल्टी भी चार्ज किए जाने का निर्देश जारी कर दिया गया है।

कई का तो दो साल पहले ही एफिलिएशन हो गया खत्म

बता दें, सिटी में सीबीएसई के जहां पहले 85 स्कूल हुआ करते थे। इधर दो सालों में अब यह संख्या 99 के पास पहुंच गई है। इनमें 21 रिनाउंड स्कूल ऐसे हैं जिनके एफिलिएशन 31 मार्च को समाप्त हो गए हैं, वहीं कुछ तो ऐस हैं जिनकी एफिलिएशन 2017 में ही समाप्त हो गए हैं, लेकिन दो साल से एफिलिएशन का रिन्युअल नहीं किया गया है। अब सवाल इस बात का है कि अगर बोर्ड न इन स्कूलों पर कार्रवाई की तो ऐसे स्कूलों में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स के भविष्य का क्या होगा।

फाइल लगाने की कर रहे बात

सिटी के जिन स्कूल प्रबंधन ने अभी तक रिन्युअल के लिए आवेदन प्रक्रिया नहीं अपनाई है वे भी इस बात का दावा कर रहे हैं कि उन्होंने रिन्युअल के लिए फाइल बोर्ड ऑफिस में लगाई है। लेकिन सवाल इस बात का है कि जब फाइल बोर्ड ऑफिस में लगाए हैं तो फिर 2017 से अभी तक इनके रिन्युअल फाइल पर बोर्ड की तरफ से विचार क्यों नहीं किया जा रहा है।

इन स्कूलों ने नहीं कराया है रिन्युअल

अभिनव स्कूल कैंपियरगंज, एयरफोर्स स्कूल, ब्लूमिंग बड्स हायर सेकेंड्री स्कूल हरपुर बुदहट, जीएन नेशनल पब्लिक स्कूल गीडा, एनई रेलवे सीनियर सेकेंड्री स्कूल कौवाबाग, नवल्स नेशनल एकेडमी कुसम्ही ब्रांच, पूर्वाचल पब्लिक स्कूल बड़हलगंज, आरसी आईडियल पब्लिक स्कूल माल्हनापार, रामसखी राम निवास कॉन्वेंट स्कूल गोला, संस्कृति इंटरनेशनल स्कूल खोराबार, सरस्वती बालिका विद्यालय सूरजकुंड, एसपीएम पब्लिक स्कूल करीमनगर, उमा शंकर विद्यापीठ बड़हलगंज के अलावा कुछ और स्कूल भी शामिल हैं।

वर्जन

सीबीएसई स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं किया जा सकता है। स्कूलों के एफिलिएशन क्यों नहीं कराया गया इसके लिए सवाल जवाब होगा।

ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया, डीआईओएस

सीबीएसई का जो प्रोसेज है, एफिलिएशन के लिए अप्लाई किया हुआ है। सबकी स्क्रूटनी चल रही है। पेपर वर्क कंप्लीट होने के बाद एफिलिएशन आ जाएगा।

अजय शाही, प्रेसीडेंट, प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन