- कोतवाली और राजघाट एरिया में कई को बना चुके शिकार

- पुलिस के राडार पर कई बदमाश, जल्द कर सकेंगे पर्दाफाश

GORAKHPUR: शहर के भीतर पुलिस वाला बनकर व्यापारियों से लूटपाट करने वाले गैंग के करीब पुलिस पहुंच गई है। बिहार, गोपालगंज के बदमाशों के वारदात में शामिल होने के सुराग मिलने पर पुलिस ने सक्रियता बढ़ा दी है। बदमाशों की तलाश में क्राइम ब्रांच की टीमें गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया सहित कई जगहों पर दबिश में लगी हैं। कुछ संदिग्धों से पूछताछ में पुलिस को ठोस सबूत मिले हैं। बैंक से रुपए निकालकर घर लौटने वाले लोगों को निशाना बनाने वाले संदिग्ध हिरासत में लिए गए हैं। राजघाट, कोतवाली पुलिस संग क्राइम ब्रांच की टीम जांच पड़ताल में जुटी है। हालांकि पुलिस अधिकारी अभी इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं।

बढ़ती टप्पेबाजी से हरकत में आई पुलिस

होजरी और कास्मेटिक्स के कारोबारी पडरौना निवासी नलिन अग्रवाल 24 मार्च को बाजार करने आए थे। घंटाघर जाते समय बक्शीपुर और नखास के बीच मिले बाइक सवारों ने उनके बैग की तलाशी ली। लेकिन इस दौरान बैग में छिपाकर रखी गई नकदी कपड़ों के नीचे ढकने से बच गई। व्यापारी ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी। इस घटना से पूर्व इसी क्षेत्र में माया टॉकीज के सामने कपड़ा कारोबारी की पत्‍‌नी को झांसा देकर बदमाश दो लाख रुपए की ज्वेलरी लेकर फरार हो गए थे। जनवरी माह से लेकर मार्च तक करीब आधा दर्जन टप्पेबाजी की घटनाएं हो चुकी हैं। शहर में वाहनों के शीशे तोड़कर बैग उड़ाने, कपड़ों पर कोई सामान लगाकर रुपए लूटने वाला गैंग भी एक्टिव था। सीसीटीवी फुटेज होने के बावजूद पुलिस बदमाशों तक नहीं पहुंच पा रही थी।

बिहार के गैंग का सुराग, तलाश में पुलिस

नलिन अग्रवाल संग हुई घटना के बाद पुलिस को कुछ क्लू मिले। जांच के दौरान पता लगा कि तीन-चार बदमाशों का गैंग अक्सर शहर में आ जाता है। अपना टारगेट चुनकर बदमाश पुलिस वाला बनकर लूटपाट करके फरार हो जाते हैं। जांच में जुटी पुलिस को जानकारी मिली कि इसी तौर-तरीके से बिहार में कई वारदातें भी हुई हैं। ये लोग बैंक से रुपए निकालकर लौटने वालों को निशाना बना चुके हैं। कई मामलों का मुकदमा भी थानों में नहीं दर्ज हुआ है। छानबीन में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जिससे बदमाशों का सुराग मिला। आधा दर्जन से अधिक बदमाशों को हिरासत में लेकर पुलिस टीम पूछताछ कर रही है।

वर्जन

अभी ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है। कुछ संदिग्धों के बारे में सुराग मिले हैं। उनकी धर-पकड़ के लिए पुलिस टीम कार्रवाई में जुटी है।

- प्रवीण सिंह, सीओ क्राइम ब्रांच