- जिले की 32 बाढ़ चौकियां हाई एलर्ट पर, बाढ़ राहत के लिए 524 नावें ली गई

- डीएम ने बुलाई आपात बैठक, सभी गांवों से संपर्क के निर्देश

बनारस में गंगा ने रौद्र रूप धारण कर लिया है. पिछले दो दिनों में जलस्तर दो मीटर तक बढ़ गया है. निचले रिहायशी क्षेत्रों में पानी घुसने लगा है तो गंगा किनारे बसी कालोनियों में भी रहने वालों की रातों की नींद उड़ गई है. बाढ़ के हालात पर डीएम सुरेंद्र सिंह ने बुधवार को आपात बैठक बुलाई. उनके निर्देश पर जिले की 32 बाढ़ चौकियों को हाई एलर्ट पर रखा गया है. इसके साथ ही बाढ़ राहत के लिए पर्याप्त सामग्री जुटा ली गई है.

चेतावनी बिंदु से 1.25 मीटर नीचे गंगा

बुधवार की सुबह आठ बजे केंद्रीय जल आयोग की रीडिंग के मुताबिक गंगा का जलस्तर 69.01 मीटर था. बनारस में गंगा का चेतावनी बिंदु 70.26 और खतरे का निशान 71.26 मीटर है. आंकड़ों के मुताबिक पिछले दो दिनों में गंगा का जलस्तर दो मीटर तक बढ़ गया है. अस्सी घाट पर सुबह-ए-बनारस के मंच तक पानी पहुंच गया है तो दशाश्वमेध घाट पर भी आरती सीढि़यों पर हो रही है. केंद्रीय जल आयोग ने अगले 24 घंटे भी जलस्तर में तेज बढ़ाव की बात कही है. इसे लेकर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है.

फसलों को भी हुआ नुकसान

गंगा किनारे के गांवों में पानी घुसने से किसानों की फसलों को भी नुकसान पहुंचा है. ग्रामीण क्षेत्रों के अलावा शहरी इलाकों और रामनगर क्षेत्र में सब्जियां उगाने वाले किसानों की फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचा है.

विभागों को किया एलर्ट

डीएम सुरेंद्र सिंह ने बुधवार को सभी विभागों की बैठक बुलाई. बैठक में सीडीओ, सीएमओ, नगर आयुक्त, अपर जिलाधिकारी समेत कई अफसर शामिल थे. डीएम ने नदी किनारे के गांवों को एलर्ट करने के साथ ही वहां के प्रधानों से संपर्क में रहने के निर्देश दिए हैं. डीएम ने बताया कि बचाव कार्यो के लिए 524 नावें आरक्षित कर ली गई हैं. इसके अलावा 6 क्रेन, 1 जेसीअी, 33 ट्रैक्टर, सर्च लाइट, लाइफ जैकेट आदि की भी पर्याप्त मात्रा में व्यवस्था कर ली गई है.

बनाए गए पांच कंट्रोल रूम

जिला मुख्यालय - 0542-2502562

बंधी प्रखंड - 0542-2225461

तहसील सदर - 0542-2281018

तहसील पिंडरा - 0542-2627011

तहसील राजातालाब - 0542-2632019