अब पुलिस राजेश मौर्या की गिरफ्तारी कर भेजेगी जेल

BAREILLY: गंगा इंफ्रासिटी कंपनी के रजिस्ट्री से जुड़े रिकार्ड पुलिस ने इकट्ठा कर लिए हैं. जिसके तहत कंपनी के नाम कुल 13 रजिस्ट्री हैं, जिनमें 10 रजिस्ट्री 5.1619 हेक्टेयर और 3 रजिस्ट्री 310.333 वर्ग मीटर एरिया की हैं. इनकी कीमत 3 करोड़ 87 लाख रुपए है. उसने 214 निवेशकों के नाम पर रजिस्ट्री की है, जिनकी कीमत 7 करोड़ 60 लाख रुपए है. पुलिस इससे पहले निवेशकों के रिकॉर्ड का मिलान कर चुकी है. जिसके तहत 2498 निवेशकों के 67 करोड़ रुपए निवेश का मामला सामने आया था. अब पुलिस राजेश मौर्या से पूछताछ कर उसकी गिरफ्तारी कर उसे जेल भेजेगी.

27 जुलाई से पुलिस कर रही पूछताछ

बता दें कि गंगा इंफ्रासिटी का मैनेजिंग डायरेक्टर राजेश मौर्या 8 जुलाई को परिवार के साथ फरार हो गया था. 10 शहरों की खाक छानने के बाद पुलिस ने उसे 27 जुलाई को गाजियाबाद से हिरासत में लिया था. जिसके बाद पुलिस ने उसकी निशानदेही पर उसके बरेली स्थित ऑफिस और कुशीनगर स्थित घर से कंपनी से जुड़े रिकॉर्ड जब्त किए थे. इन रिकार्ड का मिलान करने पर 67 करोड़ के निवेश का पता चला था. जिसके बाद पुलिस रजिस्ट्री के रिकार्ड मिलने का इंतजार कर रही थी. फ्राइडे को पुलिस को रजिस्ट्री का रिकार्ड मिल गया, जिसका सैटरडे को मिलान किया गया. पुलिस कई निवेशकों को भी बुलाकर रिकार्ड का मिलान कर चुकी है.