क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: अरगोड़ा थाना क्षेत्र से अगवा 13 वर्षीया लड़की को पुलिस ने बिहार के गया से बरामद किया था. नाबालिग को कोर्ट में पेश किया गया, जहां उसने बयान दिया है कि उसे बोलेरो से भगा कर ले जाया गया था. ले जानेवालों में वह केवल तीन को ही पहचानती है, अन्य के नाम उसे याद नहीं है. तीनों किडनैपर्स के नाम विशाल, प्रवीण और नवीन है. वहीं, अरगोड़ा पुलिस का कहना है कि नाबालिग का मेडिकल कराया गया है. रिपोर्ट अभी नहीं आई है. रिपोर्ट आने के बाद मामले में पुलिस को लीड मिल सकता है. फिलहाल तहकीकात जारी है. जानकारी के अनुसार, 31 जनवरी की रात उसके घर के पास से ही उसे अगवा किया गया और अनजान जगह पर ले जाकर गैंगरेप किया गया. मामले में विक्टिम की मां ने अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

पीडि़ता ने बताया कि 31 जनवरी को वो अपने घर के बाहर बैठी थी. इस दौरान एक युवक पहुंचा और बोला तुम्हारा भाई सड़क पर बेहोश पड़ा है. अपने भाई की बेहोशी की बात सुनकर वह दौड़कर बाहर निकल गई. तभी अपराधियों ने बताया कि तुम्हारे भाई को कार के अंदर रखा है. इसके बाद जैसे ही छात्रा कार के अंदर अपने भाई को देखने की कोशिश करने लगी, अपराधियों ने उसे कार के अंदर ढकेल दिया.

नवीन व प्रवीण ने दी थी धमकी

नाबालिग के गायब होने के बाद उसकी मां ने रांची अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई. कहा गया कि नवीन और प्रवीण नामक दो युवकों ने उसकी बेटी को अगवा करने की धमकी दी और फिर उसे अगवा भी कर लिया. इसके बाद उन्हें कॉल करके कहा गया कि अब लड़की नहीं मिलेगी.

पुरानी दुश्मनी का मामला

जिन युवकों पर छात्रा ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है, उनसे छात्रा के परिवार की पुरानी दुश्मनी है. दोनों परिवारों के बीच कुछ दिन पहले जमकर मारपीट भी हुई. फिलहाल पुलिस छात्रा के आरोपों की जांच कर रही है. हालांकि छात्रा ने दुष्कर्म की वारदात को सही बताया है.