RANCHI: तुपुदाना ओपी पुलिस ने दो नाबालिग लड़कियों से गैंगरेप मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. घटना तुपुदाना ओपी एरिया के गडसूल में घटी. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए जॉन बांदो व सुरजीत लिंडा को गिरफ्तार किया है. इस बाबत विक्टिम नाबालिग का बयान लिया गया है. पुलिस ने पोक्सो एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की है. धुर्वा इंस्पेक्टर तालकेश्वर राम ने बताया कि दो आरोपियों बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल भेजा गया है, जबकि अन्य दो नाबालिग आरोपी रिमांड होम भेज ि1दए गए हैं.

क्या है मामला

जानकारी के मुताबिक, हुलहुंडू की रहनेवाली दो नाबालिग लड़कियों की सौदाग के दो नाबालिग लड़कों से दोस्ती थी. दोनों ने फोन कर नाबालिग लड़कियों को बुलाया था. नाबालिग लड़कियों के घर से बाहर आने के बाद दोनों लड़के उन्हें बाइक पर बिठाकर गडसूल की ओर ले गए. वहां पर दो और वयस्क पहुंच गए. फिर दोनों नाबालिगों लड़कियों के साथ गैंगरेप किया गया.

बोलीं विक्टिम-घुमाने के बहाने ले गए थे दोस्त

राजधानी के तुपुदाना ओपी क्षेत्र में दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप की भुक्तभोगी ने बताया कि उनके दोस्तों ने ही गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया है. गैंगरेप की शिकार पीडि़ता के अनुसार उनके दो दोस्त गुरुवार की शाम उन्हें तुपुदाना घुमाने ले गए थे. इस दौरान उन्होंने एक सुनसान जगह पर ले जाकर दोनों बहनों के साथ रेप किया. इस बीच उनके दो और साथी आए और उन्होंने भी उनके साथ रेप किया.

पांच घंटे में तीन बार गैंगरेप

इधर, पीडि़ता के अनुसार चारों आरोपियों ने उनके साथ पांच घंटों के दौरान तीन बार गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया. इसी बीच किसी तरह एक बहन भागकर अपनी बड़ी मां के घर पहुंची और उन्हें पूरे मामले की जानकारी दी. इसके बाद परिजनों ने पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी. दोनों नाबालिग दुष्कर्म पीडि़ता का रांची के सदर अस्पताल में मेडिकल करवाया गया, जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई है.