-गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ने से बंद किया गया बक्शी बांध का स्लूज गेट

-माता टीला डैम सहित गंगा बैराज से छोड़ा गया पानी पैदा कर रहा समस्या

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: खतरे की घंटी लगातार बज रही है. ऊंचाई से छोड़ा गया पानी गंगा-यमुना का जलस्तर बढ़ा रहा है. नदियों में उफान आने से एहतियातन बक्शी बांध स्लूज गेट को रविवार को बंद कर दिया गया. प्रशासन की ओर से सभी एसडीएम व तहसीलदारों को अलर्ट कर दिया गया. हालांकि, स्लूज गेट बंद किए जाने से बक्शी बांध से जुड़े इलाकों में लोग सहमे रहे. उनका कहना था कि अब बारिश हुई तो एरिया में जलभराव की समस्या खड़ी हो जाएगी.

आनन-फानन में बंद हुआ गेट

शनिवार को माता टीला डैम सहित उत्तराखंड से छोड़ा गया पानी गंगा-यमुना में पहुंचने से खलबली मच गई. अचानक नदियों के जलस्तर में तेज बढ़ोतरी देखकर प्रशासन ने आनन-फानन में दोपहर बाद बक्शी बांध का स्लूज गेट बंद करा दिया. बताया जा रहा है कि अगले एक सप्ताह तक जलस्तर में वृद्धि बनी रह सकती है. ऐसे में स्लूज गेट बंद करना जरूरी था. गंगा में 16 सेमी और यमुना में 29 सेमी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है.

अधिकारियों को किया गया अलर्ट

बाढ़ की आशंका को देखते हुए जिला प्रशासन ने एसडीएम सहित तहसीलदारों को अलर्ट मोड पर डाल दिया है. कहा गया कि जलभराव से निपटने के लिए वह अपनी प्लानिंग कर लें. क्योंकि जिस गति से गंगा-यमुना में वृद्धि हो रही है वह भविष्य में दिक्कत पैदा कर सकती है. गंगा का जलस्तर 80 मीटर से अधिक हो जाने के बाद सबसे ज्यादा खतरा बघाड़ा, सलोरी, ओमगायत्री नगर, राजापुर सहित एक दर्जन कछार एरिया पर मंडराने लगा है.

पंपिंग स्टेशन को तैयार रहने के आदेश

जिला प्रशासन ने स्लूज गेट बंद हो जाने के बाद नगर निगम को तमाम पंपिंग स्टेशन चालू रखने के आदेश दिए हैं. अधिकारियों का कहना है बारिश होने पर अल्लापुर, तिलकनगर सहित बक्शी बांध से जुड़े कई एरिया में जलभराव का खतरा उत्पन्न हो जाएगा. ऐसे में पानी को पंप के जरिए फेंका जाएगा, जिसकी तैयारियां की जा रही है. इसके अलावा कछार के इलाकों में भी लोग सतर्क रहे. गंगा के बेहद नजदीक बने मकानों में रहने वाले पल-पल जलस्तर पर नजर टिकाए रहे.

24 घंटे में जलस्तर वृद्धि

खतरे का निशान: 84.73 मीटर

गंगा का जलस्तर: 80.28 मीटर

जलस्तर में बढ़ोतरी: 16 सेमी

यमुना का जलस्तर: 78.98 मीटर

जलस्तर में बढ़ोतरी: 29 सेमी

वर्जन..

माता टीला डैम से भारी मात्रा में पानी छोड़ा गया है. जिसकी वजह से अगले कुछ दिनों तक यमुना में जलस्तर वृद्धि जारी रहेगी. गंगा में भी उफान बना हुआ है. इसीलिए एहतियातन स्लूज गेट बंद कराया गया है. हमलोग लगातार जलस्तर पर नजर बनाए हैं.

-मनोज सिंह, एक्सईएन, सिंचाई विभाग बाढ़ प्रखंड