अध्‍यक्ष बनने वाले स्‍विटजरलैंड के दूसरे व्‍यक्‍ित
पहले दौर में जियानी आश्चर्यजनक रूप से 88 मतों से आगे चल रहे थे। उस दौर में शेख सलमान को 85, प्रिंस अली 27 और कैंपपनेग को सात वोट मिले। 45 वर्षीय जियानी यूरोपियन गवर्निग बॉडी (यूइएफए) के महासचिव भी हैं। वह फीफा अध्यक्ष बनने वाले स्विट्जरलैंड के लगातार दूसरे व्यक्ति हैं। पिछले साल एक नाटकीय घटनाक्रम के तहत ब्लाटर के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद यूईएफए अध्यक्ष और फ्रांसीसी दिग्गज प्लातिनी को उनका संभावित उत्तराधिकारी माना जा रहा था, लेकिन प्रतिबंध लगने से उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया।फीफा सदस्य संघ ने शुक्रवार को वैश्विक स्तर पर फुटबॉल में किए जाने वाले बड़े पैमाने के सुधारों को अपनी मंजूरी दे दी। फीफा द्वारा निलंबित इंडोनेशिया और कुवैत को छोड़कर बाकी 207 सदस्य संघों के प्रतिनिधि बेहद खास कांग्रेस में मौजूद थे।

फुटबॉल में लाना है सुधार

विश्व स्तर पर फुटबॉल के खेल के संचालन के लिए होने वाले सुधार, फीफा सुधार समिति के प्रस्तावों और कार्यकारी समिति द्वारा कांग्रेस में पेश फीफा नियमावली पर आधारित हैं। 201 मतों में से 179 मत सुधार से संबंधित प्रस्तावों के पक्ष में पड़े। 22 सदस्यों ने इसके खिलाफ वोट किया। सुधार रिपोर्ट में जिन सुधारों की बात कही गई है उनमें राजनैतिक और प्रंबधकीय कामों का स्पष्ट रूप से बंटवारा, पदाधिकारियों के कार्यकाल की सीमा, व्यक्तिगत मुआवजे का खुलासा, फुटबॉल में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाना और मानवाधिकारों के लिए प्रतिबद्धता आदि शामिल हैं।

inextlive from Sports News Desk

inextlive from News Desk