- कुम्हार मंडी स्थित शिव-पार्वती मंदिर की छत ढही, युवती आई चपेट में

- डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद निकाला जा सका मलबे से लड़की को

- स्थानीय लोगों ने पहुंचाया अस्पताल, डॉक्टरों ने किया मृत घोषित

dehradun@inext.co.in

DEHRADUN : कुम्हार मंडी स्थित निर्माणाधीन शिव पार्वती मंदिर की छत ढहने से वहां दर्शन करने गई एक युवती की मौत हो गई. हादसे की सूचना पुलिस को दी गई, फोर्स मौके पर पहुंची और लड़की को मलबे से निकालने में करीब डेढ़ घंटा लग गया. युवती को अचेत अवस्था में मलबे से निकालकर हॉस्पिटल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

भरभराकर युवती के ऊपर गिरा लैंटर

मंडे को कुम्हार मंडी स्थित शिव-पार्वती मंदिर में 12वीं की एक छात्रा पूजा के लिए आई थी. मंदिर में मरम्मत का काम चल रहा है, इसलिए मंदिर के एक किनारे का लैंटर आधा तोड़कर छोड़ा गया था. लड़की जैसे ही इस हिस्से में पहुंची लैंटर का एक हिस्सा उसके ऊपर आ गिरा, जिसमें दबने से उसकी मौत हो गई. हादसे से पहले तक कुछ और लोग भी इस हिस्से में मौजूद थे.

लापरवाही ने ले ली जान

शिव पार्वती मंदिर में इन दिनों मरम्मत का काम चल रहा है. मंदिर समिति द्वारा दो ठेकेदारों को यह काम सौंपा गया है. मंदिर के किनारे आरसीसी लैंटर को आधा तोड़कर छोड़ा गया था. यहीं हिस्सा युवती के ऊपर आ गिरा. मंदिर में सुरक्षा को देखते हुए एहतियाती कदम नहीं उठाए गए थे. जिधर लैंटर तोड़कर छोड़ा गया था वहां जाने पर रोक नहीं लगाई थी.

ठेकेदार के खिलाफ प्रदर्शन

हादसे की सूचना पर मौके पर सैकड़ों लोग जमा हो गए. उन्होंने ठेकेदार को लापरवाह बताते हुए उसके खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया. पुलिस ने किसी तरह लोगों को समझाया और रेस्क्यू शुरू किया. हालांकि, ठेकेदार के खिलाफ कोई तरहीर पुलिस को नहीं दी गई है.

5 मिनट पहले गिरती छत तो और बड़ा हादसा होता

छत गिरने से ठीक पांच मिनट पहले तक मंदिर में काफी श्रद्धालु मौजूद थे. अगर ये हादसा पांच मिनट पहले होता तो और बड़ा हादसा हो सकता था और कई लोग मंदिर की छत की चपेट में आ सकते थे.

डेढ़ घंटे में निकाला जा सका

हादसे के बाद स्थानीय पार्षद सचिन गुप्ता द्वारा फोन पर इसकी जानकारी पुलिस को दी गई. पुलिस मौके पर पहुंची और स्थानीय लोगों की मदद से युवती को मलबे से निकालने के लिए रेस्क्यू शुरू किया गया. करीब डेढ़ घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद युवती को अचेत अवस्था में मलबे से निकाला गया.

डॉक्टरों ने किया मृत घोषित

मलबे से युवती को निकालने के बाद स्थानीय लोग अपने वाहन से युवती को मैक्स अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. बताया जा रहा है कि युवती के पिता की मृत्यु 4 साल पहले हो गई थी. उसकी पहचान संगीता पुत्री स्व. ताराचंद के रूप में हुई. युवती 12 वीं क्लास की स्टूडेंट थी.

मंदिर की मरम्मत कर रहे ठेकेदार की लापरवाही के चलते लड़की की मौत हुई है. मंदिर में मरम्मत का कार्य चल रहा था, लैंटर आधा तोड़कर छोड़ा गया था, लेकिन सुरक्षा के पुख्ता इंताजम मौके पर नहीं किए गए थे.

सचिन गुप्ता, निवर्तमान पार्षद

निर्माणधीन मंदिर की छत गिरने से युवती की मौत हुई है. पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

शंभूप्रसाद सजवान, प्रभारी, बिंदाल चौकी