चाईबासा। मोबाइल चोरी के आरोप में युवती का सिर मुंडवा कर जूते की माला पहनाकर घुमाने के आरोप में सुफलसाई निवासी राहुल रोशन बानरा को पुलिस ने गिरफ्तार कर शुक्रवार को जेल भेज दिया. इस मामले में शामिल अन्य तीन नामजद आरोपी राजेश, सुजीत एवं बबलू पुरती फरार हो गए हैं. मुफ्फसिल थाने के सहायक अवर निरीक्षक सुनील कुमार के बयान पर चार नामजद समेत 20 अन्य लोगों के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. इस मामले में शामिल अन्य आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस विभिन्न जगहों पर छापेमारी कर रही है.

जमा हो गई भीड़

दर्ज प्राथमिकी में बताया गया है कि मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के सुफलसाई में रहने वाली प्रियंका पुरती का मोबाइल 8 मई की रात घर से गायब हो गया था. उसी रात प्रियंका के मोबाइल पर फोन किया गया तो एक लड़की ने फोन को रिसीव किया. बातचीत में लड़की ने गुरुवार की सुबह 6 बजे चाईबासा बस स्टैंड आकर ले जाने की बात कही. स्टैंड में पीडि़ता ने प्रियंका के पड़ोसी राहुल रोशन बानरा को मोबाइल को वापस कर दिया. इतने में अन्य लोग भी वहां पहुंच गये. इसके बाद उसे पकड़ कर सुफलसाई ले गये. सुफलसाई में उस लड़की को देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई. इसके बाद लोगों ने मोबाइल चोरी के जुर्म में सजा देने की योजना बना ली. लोग उसे मारने पीटने लगे. तभी वहां मौजूद सुजीत ने ्उस लड़की को पकड़ कर उसका सिर मुंडन कर दिया. इसके बाद राजेश और राहुल ने मिलकर उसके साथ मारपीट करते हुए जूते की माला पहना दी. इसके बाद सुफलसाई से शहर की ओर घुमाने ले गये. इस तरह से लज्जा भंग करना संज्ञेय अपराध है.

32 घंटे बाद पुलिस ने पीडि़ता युवती को ढूंढ निकाला

चाईबासा शहर से दो किलोमीटर दूर सुफलाई में मोबाइल चोरी का आरोप लगाकर लोगों ने जिस लड़की के साथ अमानवीय कृत्य किया गया उसे पुलिस ने करीब 32 घंटे बाद ढूंढ निकाला है. पुलिस ने उसे शाम करीब छह बजे चाईबासा में जेएमपी चौक से बरामद किया है. घटना के बाद से लड़की काफी सहमी हुई है. पूरे शरीर पर चोटें आई हैं. उसकी स्थिति को देखते हुए पुलिस ने सदर अस्पताल में उसका सारा इलाज कराने के बाद अपनी अभिरक्षा में रखा है. फिलहाल वो कुछ भी बोलने में असमर्थ है. डीएसपी मुख्यालय प्रकाश सोय ने बताया कि लड़की चक्रधरपुर की रहने वाली है. हम लोगों ने उसे देर शाम जेएमपी चौक से बरामद कर लिया है. वो घटना के बाद से कहां थी, रात भर कहां रही, जेएमपी चौक कैसे पहुंची, ये सब अभी तक पता नहीं चला है. उसकी हालत और मनोदशा को देखते हुए पुलिस अभी किसी तरह की पूछताछ नहीं कर रही है. भीड़ ने उसे काफी बुरी तरह पीटा है. पूरे शरीर में चोट आई है. सदर अस्पताल में हम लोगों ने उसका इलाज कराया है.