ज्वेलर्स और इंडस्ट्रियल यूनिट्स में कम रही मांग
ऐसा माना जा रहा है कि ज्वेलर्स और इंडस्ट्रियल यूनिट्स की ओर से डिमांड कम होने से गोल्ड और सिल्वर के दामों में गिरावट आई. बुलियन मार्केट के जानकारों का कहना है कि कमजोर ग्लोबल क्यू और स्टॉकिस्टों की प्रॉफिट बुकिंग से सोने-चांदी के प्राइस गिरे हैं. इक्विटी मार्केट्स में भी तेजी अल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट के लिये मांग घटी है. इसका असर भी गोल्ड और सिल्वर की कीमतों पर पड़ा है.  गुरुवार को सोने के दाम में 160 की गिरावट दर्ज की गई थी. वहीं बुधवार को चांदी की कीमतो में 200 रुपये की तेजी आई थी.

गोल्ड में इंवेस्टमेंट का गोल्डेन चांस
बुलियन मार्केट के जानकारों का कहना है कि यह गोल्ड में इंवेस्ट करने का सही टाइम है. अगर अभी आप गोल्ड खरीदते हैं तो यह आपको सस्ते दाम पर मिल जाएगा. इसके बाद आप इसे बेचकर अच्छा मुनाफा कम सकते हैं.

Business News inextlive from Business News Desk