PATNA : स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर की बिहटा शाखा में अफसरों को गोल्ड की पहचान नहीं हो पाई और उन्होंने नकली सोना पर फ्भ् लाख रुपए का लोन बांट दिया. बैंक का अब एसबीआई में विलय हो चुका है. मामला जब उजागर हुआ तो पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है.

पुराना मामला अब जाकर खुला

मामला वर्ष ख्0क्फ् से ख्0क्ब् के बीच बिहटा स्थित स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर शाखा का है, जिसका अब एसबीआइ में विलय हो चुका है. बैंक से इस अवधि में बिहटा निवासी अनिल प्रसाद, सदीसोपुर निवासी हीरा लाल प्रसाद, बिहटा निवासी अश्रि्वनी कुमार, बिहटा निवासी अशोक कुमार और बिहटा की ही लाजवंती देवी ने सोना गिरवी रखकर ऋण लिए.

पैसा जमा नहीं होने पर गोल्ड बेचने पर हुआ खुलासा

अकाउंट एनपीएस होने पर शाखा प्रबंधक ने ऋ णी को नोटिस करके गिरवी रखे सोने को बेचने का फैसला लिया. इस क्रम में पता चला कि इन पांचों द्वारा गिरवी रखा गया सोना नकली है. पिछले साल भी बैंक की इस शाखा में नकली सोना गिरवी रख फ्भ् लाख लोन लेने के मामले में डेढ़ दर्जन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. मामले में कई ऋणी गिरफ्तार करके जेल भेजे गए हैं.