JAMSHEDPUR: गुड फ्राइडे पर शुक्रवार को चर्चो में विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। पल्ली पुरोहित ने मानव के लिए ईसा मसीह के बलिदान को याद करते हुए मिस्सा पूजा की। उन्होंने ईसा के बलिदान से जुड़े घटनाक्रम पर आधारित संस्मरण का जिक्र करते हुए अपने संदेश में कहा कि ईसा को मानव के साथ घटित अन्यान्य के विरुद्ध आवाज उठाने के कारण मृत्यु की सजा दी गई। ईसा ने मानव के कल्याण के लिए मृत्युदंड स्वीकार किया और सजा देने वाले को माफ करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।

फादर ने संदेश दिया कि हम भी ईसा की तरह न्यायप्रिय और क्षमाशील बनें। क्योंकि ईसा ने हमें सीख दी है कि क्रोध करने से आपस में कटुता आती है और जीवन में शांति गायब हो जाती है। लिहाजा हमें अपना जीवन धैर्य के साथ और शांतचित्त होकर बिताना चाहिए। इससे पूर्व सेंट जोसेफ चर्च गोलमुरी में विभिन्न यूनिट के सदस्यों ने ईसा मसीह के क्रूस पर टांगे जाने के पूर्व के घटनाक्रम की 14 माíमक झांकियों की प्रस्तुति दी। हर झांकी के साथ प्रार्थना मंडली के द्वारा विश्व में चल रहे अपराध की घटना एवं मानवीय भेदभाव पर ¨चता व्यक्त करते हुए ईश्वर से प्रार्थना की गई मानव आपस में कटुता को भूलकर प्रेम व न्याय के मार्ग पर चलें।

यहां-यहां हुई प्रार्थना

-संत मार्क चर्च मानगो में फादर फ्रांसिस कच्छप ने प्रार्थना कराई।

-संत एंथोनी चर्च मानगो में फादर सुरेश ने प्रार्थना कराई।

-संत जॉर्ज चर्च नार्दर्न टाउन में फादर दीपक अनिल जोजो ने प्रार्थना कराई।

-संत मेरीज चर्च बिष्टुपुर के फादर एडवर्ड सलधाना ने प्रार्थना कराई।

-बेल्डीह चर्च नार्दर्न टाउन में फादर मनोज चरण ने प्रार्थना संपन्न कराई।

-संत जोसेफ चर्च गोलमुरी में फादर एडविन, फादर गुलशन ने प्रार्थना कराई।