बुधवार से बंद हो गई बसों की आनलाइन बुकिंग

फर्जीवाड़ा के बाद यूपीआरसीटीसी ने लगाई रोक

GORAKHPUR: रोडवेज के लग्जरी एसी बसों से सफर करने वालों की मुश्किल बढ़ गई है. बुकिंग में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद प्रदेश सरकार ने बुकिंग पर रोक लगा दिया. बुधवार आधी रात के बाद से बुकिंग पूरी तरह से ठप हो गई. आनलाइन टिकट बुक न होने से काउंटर पर भीड़ बढ़ने लगी है. हालांकि सर्वर डाउन होने से यात्रियों को विंडो टिकट लेने में मुश्किल झेलनी पड़ रही है. गुरुवार दोपहर करीब दो घंटे तक सर्वर डाउन रहने से टिकट नहीं बन सकें. अधिकारियों का कहना कि शासन के निर्देश पर काम किया जा रहा है. आनलाइन बुकिंग ठप कर दी गई है. बस में सवार होने के लिए डिपो के काउंटर और बसों में कंडक्टर से टिकट बनवाने की सुविधा दी जा रही है.

साइट पर नहीं हुई बुकिंग, विंडो ने िदया धोखा

यूपीआरसीटीसी में ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग में फर्जीवाड़ा सामने आया है. बिना पैसे टिकट बुक होने का मामला सामने आने पर परिवहन मंत्री ने जांच का निर्देश दिया. बुधवार को परिवहन विभाग ने वेबसाइट पर आनलाइन बुकिंग को बंद करा दी. बताया गया है कि जांच जारी रहने तक कोई बुकिंग नहीं होगी. आनलाइन टिकटों की बुकिंग न होने पर गुरुवार को पैंसेजर्स खिड़की पर पहुंचे. लेकिन दोपहर में करीब दो बजे अचानक सर्वर डाउन हो गया. इससे टिकटों की बुकिंग बंद हो गई. विंडों पर पहुंचे लोगों को बुकिंग क्लर्क ने लौटा दिया. यह भी बताया कि पता नहीं कब तक सर्वर गायब रहेगा. इसलिए जिनको यात्रा करनी है वह लोग अपना टिकट बस में बुक करा लें. तब तमाम यात्री बसों की ओर लौट गए. हालांकि करीब दो सौ टिकटों की बुकिंग विंडो से हुई थी.

हर माह करीब ढाई लाख की बुकिंग

गोरखपुर डिपो से चलने वाली एसी बसों के लिए हर माह ऑनलाइन करीब ढाई लाख रुपए के टिकटों की बुकिंग होती थी. अकेले जून में दो लाख 80 हजार के टिकट बनाए गए थे. प्रदेश भर में एक करोड़ 70 लाख, 225 रुपए के टिकट बुक कराए गए थे. रोडवेज कर्मचारियों ने बताया कि गोरखपुर डिपो से चार शताब्दी बसें चलती हैं. आनलाइन बुकिंग बंद होने से यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ेगा. कर्मचारियों के बीच इस बात की चर्चा रही कि आनलाइन बुकिंग वाले टिकटों को कैंसिल कराने पर निकली रिसीविंग स्लिप पर सैकड़ों यात्री यात्रा कर चुके हैं. इस वजह से रोडवेज को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. जांच के बाद मामला सामने आ सकेगा.

फैक्ट फीगर

गोरखपुर से टिकटों की आनलाइन बुकिंग प्रतिमाह - 2,500000 से 2,80000 रुपए

जून माह में प्रदेश में हुई आनलाइन बुकिंग- 1 करोड़ 70 लाख 225 रुपए

गोरखपुर में रोडवेज की बसें - 745

प्राइवेट बसों का संचलन- 245

अन्य बसें- 370

गोरखपुर-लखनऊ के बीच शताब्दी बसों का संचालन

प्रस्थान गोरखपुर प्रस्थान लखनऊ

सुबह 07.30 बजे शाम 04.00 बजे

सुबह 08.30 बजे शाम 04.30 बजे

सुबह 09.30 बजे रात 05.00 बजे

सुबह 10.30 बजे रात 06.00 बजे

क्या होता था फायदा

- आनलाइन टिकट बुक होने पर सीट मिलने की गारंटी रहती थी.

- यात्रियों को सामान के साथ इधर-उधर नहीं भटकना पड़ता था.

- विंडो पर सर्वर डाउन होने पर टिकट बनाने में समस्या आती है.

- बस में सीट मिलने पर ही यात्री सफर पूरा कर सकेगा. वहीं टिकट बनेगा.

- भीड़ होने की दशा में मनचाहे बस में यात्रा करने में मुश्किल होगी.