-शाहरपुर एरिया में चोरों का दहशत, अभी तक पुरानी घटनाओं का भी नहीं हुआ खुलासा

-एफआईआर दर्ज कराने के लिए पीडि़तों को दौड़ा रहे पुलिस पदाधिकारी

GORAKHPUR: पुलिस के सुरक्षा के लाख दावे के बाद भी शहर में बदमाशों के हौसले बढ़ गए हैं. आए दिन चोरी, छिनैती की घटनाएं आम बात हो गई है. सुरक्षा देने के बदले उल्टे पुलिस पदाधिकारी आम लोगों से बदसलूकी करने पर उतारू हो गए हैं. एक एफआईआर के लिए पीडि़तों को तीन दिन तक थाने का चक्कर लगाना पड़ रहा है. मंगलवार को भी ऐसे ही हुआ. तड़के घर के अंदर खड़ी बाइक चोर उड़ा ले गए. सिर्फ इतना ही नहीं रेकी कर चोर मकानों में भी धावा बोल रहे हैं. इससे शाहपुर एरिया की पब्लिक दहशत में हैं. जबकि, पुलिस का दावा है कि रात में पेट्रोलिंग होती है.

1-केस

शाहपुर एरिया के मानस बिहार कॉलोनी के रहने वाले सुरेंद्र सिंह की भाभी की तबियत खराब है. वह सोमवार शाम खाना लेकर हॉस्पिटल गए. आधी रात को घर लौटे और घर के अंदर बाइक खड़ी कर सोने चले गए. सुबह जब नींद खुली तो बाइक गायब थी. उन्होंने घटना की जानकारी पुलिस को दी. सूचना पर पहुंची पुलिस मामले की जांच का हवाला देकर लौट गई. उन्होंने शाहपुर थाने में शिकायत की अर्जी दी. मगर तहरीर लेने के बाद पुलिस दौड़ा रही है.

2-केस

मानस बिहार के बीपी श्रीवास्तव ने पिछले महीने मकान बनवाया. इसके बाद वह ताला बंद कर गोंडा चले गए. इस दौरान जानकारी मिली कि उनके मकान के बाथरूम में लगे टोटी, टाइल्स और वेशिंग चोर दरवाजा तोड़कर उठा ले गए हैं. उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने केस दर्ज करने के बाद मामले का ठंडे बस्ते में डाल दिया है.

3-केस

मानस बिहार के रहने वाले विरेंद्र कुमार यादव शिक्षक हैं. 22 सितंबर को वह विद्यालय चले गए. घर में सिर्फ ज्योति अकेली थी. बाथरूम में कपड़े धूल रही थी. इस दौरान चोर मेनगेट की कुंडी खोलकर कमरे में दाखिल हो गए. फिर ज्योति को बाथरूम के अंदर बंद कर कमरे के आलमारी में रखा 25 हजार रुपये नकदी समेत साढे़ तीन लाख रुपए के जेवरात उड़ा ले गए. रविंद्र ने इसकी कप्लेंट शाहपुर थाने में दर्ज कराई, लेकिन एक माह बाद भी चोर का पता नहीं चल सका है.

4- केस

मानस बिहार के रहने वाले रितेश श्रीवास्तव मुहल्ले में ही दुकान चलाते हैं. दो माह पहले उनके भाई प्राइवेट कंपनी से काम कर लौट रहे थे. तभी दो बदमाशों ने उसका रास्ता रोक लिया. अभी वह कुछ समझ पाते कि उसे असलहा दिखाकर बदमाश मोबाइल छीन कर फरार हो गए. हालांकि इस मामले में भी केस दर्ज कराया गया था.

वर्ष नकबजनी वाहन चोरी

2016 207 666

2017 244 712 (जनवरी से लेकर अब तक का डॉटा )

वर्जन

चोरी की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए पुलिस रात में गश्त के साथ चोरों की तलाश में जुटी है. जल्द वह पुलिस की गिरफ्त में होंगे.

घनश्याम तिवारी, इंस्पेक्टर शाहपुर