- बसों से दिल्ली की यात्रा भी हो जाएगी सुखद

- फैजाबाद के बाहर से आवागमन करेंगी एसी बसें

GORAKHPUR: एयरवेज और रेलवे के बाद रोडवेज ने गोरखपुर से दिल्ली के सफर को सुहाना बनाने की कोशिश शुरू कर दी है. गोरखपुर से दिल्ली तक सफर करने वाले यात्री कम समय में सफर पूरा कर सकें इसके लिए रोडवेज अधिकारी मशक्कत कर रहे हैं. गोरखपुर रीजन की बसों को आगरा एक्सप्रेस वे से चलाने की अनुमति मांगी है. रीजनल मैनेजर का कहना है कि लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे पर एक माह के भीतर संचलन शुरू कर दिया जाएगा.

एक्सप्रेस वे पर चलेंगी बसें

गोरखपुर से दिल्ली जाने वाले यात्रियों को रेलवे स्पेशल ट्रेन की सुविधा दे रहा है. रविवार को दिल्ली से आवागमन करने के लिए प्राइवेट एयरवेज कंपनी ने बोइंग विमान की सुविधा उपलब्ध कराई है. रेलवे और एयरवेज लगातार यात्रियों की सुविधा बढ़ा रहा है. साथ ही यात्रा में लगने वाले समय को कम करने की कोशिश भी जारी है. इस मुहिम में रोडवेज पिछड़ गया था. इसलिए रोडवेज अधिकारियों ने लग्जरी बस सेवाओं में दूरी के हिसाब से यात्रा का समय कम करने का प्लान तैयार किया है. रोडवेज अधिकारियों का कहना है कि लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर बसों के संचलन की अनुमति मांगी है. इसका प्रपोजल तैयार करके मुख्यालय को भेज दिया गया है.

शहर, कस्बों के बाहर से जाएंगी लग्जरी बसें

रोडवेज अधिकारियों का कहना है कि गोरखपुर से लखनऊ, कानपुर और दिल्ली की दूरी को कम करने का दूसरा उपाय भी निकाला गया है. शहरों और कस्बों के भीतर से बसों के आवागमन करने पर दो से ढाई घंटे अतिरिक्त समय का फर्क पड़ता है. इसको देखते हुए कुछ शहरों और कस्बों के बाहर बाईपास से होकर बसों को चलाया जाएगा. लेकिन यह सुविधा पायलट प्रोजेक्ट के रूप में एसी बसों में उपलब्ध कराई जाएगी. पहले चरण में एसी बसों को फैजाबाद के बाहर से होकर चलाया जाएगा. इससे लखनऊ तक सफर करने वाले यात्रियों का कम से कम एक घंटे का समय बचेगा. यह प्रयोग सफल होने पर इसे आगे बढ़ाया जाएगा. समय बचाने वाले यात्रियों को बस पकड़ने के लिए बाईपास पर पहुंचना होगा. रोडवेज की ओर से बाईपास पर स्टॉपेज बनाने का प्रपोजल भी दिया जाएगा.

वर्जन

यात्रियों की सुविधा को बढ़ाते हुए काम किया जा रहा है. गोरखपुर से लखनऊ के यात्रियों का ज्यादा समय बचाने के लिए प्रपोजल तैयार किया गया है. फिलहाल, एसी बसों का आवागमन फैजाबाद शहर के भीतर से नहीं होगा. बाईपास पर बसों का स्टॉपेज बनाया जाएगा.

- डीबी सिंह, रीजनल मैनेजर, गोरखपुर रीजन