- फॉल्ट व लो वोल्टेज की समस्या से परेशान हैं शहर के बिजली उपभोक्ता

- रात में अचानक बत्ती गुल होने से अंधेरे में डूब जाता है शहर

- साल भर पहले बदले गए थे उपकरण, फिर भी व्यवस्था फेल

GORAKHPUR: आजादी के इतने वर्षो बाद भी आम लोगों को बुनियादी सुविधाएं तक पूरी तरह नसीब नहीं हो सकी हैं. बिजली आपूर्ति की बात करें तो अब भी आम बिजली उपभोक्ता फॉल्ट और अनियमित कटौती से ही परेशान है. गोरखपुराइट्स भी व्यवस्था की ये बदहाली लगातार झेलते आ रहे हैं. शहर के सीएम सिटी बनने के बाद बिजली विभाग का दावा था कि शहरवासियों को 24 घंटे बिजली मिल सकेगी. लेकिन लाख दावों के बादवूद हाल ये कि शहरवासी अब भी फॉल्ट और लो वोल्टेज की समस्या में ही उलझे हैं. आ दिन रात में अचानक बत्ती गुल हो जाने से शहर के अधिकांश इलाके अंधेरे में डूब जाते हैं.

नो ट्रिपिंग जोन का दावा भी फेल

बिजली विभाग ने 15 अगस्त से सिटी को भरपूर बिजली देने का दावा किया था. शहर को नो ट्रिपिंग जोन भी घोषित किया गया था. बावजूद इसके उपभोक्ताओं को भरपूर तो क्या पर्याप्त बिजली भी नहीं मिल पा रही है. कहीं फॉल्ट तो कहीं रात में लो वोल्टेज की समस्या से पब्लिक परेशान है. बता दें, कुछ दिनों पहले शहर के सब स्टेशनों पर लगे पैनल बॉक्सों पर सवाल उठे थे. इस पर महानगर विद्युत वितरण निगम के अधिकारियों ने अत्याधुनिक सिस्टम से लैस करने की बात की थी. फिर भी सिटी में फॉल्ट व लो वोल्टेज की समस्या से निजात नहीं मिल सकी. इसी का नतीजा है कि दावे पर दावे करने वाले अधिकारी अब अपनी बात से कतरा रहे हैं.

बॉक्स

42 हजार प्वॉइंट, जलतीं 20 हजार स्ट्रीट लाइट्स

शहर में बिजली निगम की तरफ से लगाए गए खंभों पर नगर निगम के करीब 42 हजार प्वाइंट्स हैं. नगर निगम का दावा है कि शहर के विभिन्न इलाकों में लगभग 32 हजार एलईडी लाइट लगाई गई हैं जो शहर मे उजाला फैलाती हैं लेकिन हकीकत यह है कि बारह हजार लाइट्स पूरी तरह बंद हैं. सिर्फ 20 हजार एलईडी लाइट्स जल रही हैं. इन लाइटों को ठीक कराने के लिए कई बार लोगों ने संबंधित विभाग से शिकायत की लेकिन इसका असर नहीं दिखता.

यहां फॉल्ट और लो वोल्टेज की ज्यादा समस्या

- राप्तीनगर

- नार्मल

- खोराबार

- रुस्तमपुर

- पैडलेगंज

- मोहद्दीपुर

- हरिओम नगर

- शाहपुर

- पादरी बाजार आदि एरिया प्रभावित

कोट्स

अफसर बिजली आपूर्ति का दावा करते हैं लेकिन इसके बावजूद भी भरपूर आपूर्ति नहीं मिलती है. फॉल्ट व लो वोल्टेज अलग मुसीबत बढ़ाते हैं.

- अवध गुप्ता, व्यापारी

हर रोज बिजली की समस्या से सबसे अधिक व्यापार प्रभावित हो रहा है. गर्मी में व्यापार करना काफी मुश्किल है. बिजली विभाग भरपूर बिजली नहीं दे पा रहा है.

- अविनाश गुप्ता, व्यापारी

वर्जन

पूरी कोशिश है कि उपभोक्ताओं को भरपूर बिजली मिले. कुछ इलाकों में तकनीकी प्रॉब्लम के कारण फॉल्ट हो रहे हैं. कुछ जगहों पर मेंटेनेंस का काम चल रहा है. उपभोक्ताओं को थोड़ी परेशानी हो रही है. जल्द ही व्यवस्था ठीक कर लिया जाएगी.

- एके सिंह, अधीक्षण अभियंता, महानगर विद्युत वितरण निगम