- मुजफ्फरनगर से वापस फिर बरेली पहुंचे लोनिवि मंत्री शिवपाल यादव

- शिक्षामित्रों को हक की लड़ाई लड़ने का दिया आश्वासन

- विकास कार्यो में केंद्र नहीं कर रहा मदद

BAREILLY:

'पंचायती चुनावों में सरकार कोई हस्तक्षेप नहीं कर रही है. सारी जिम्मेदारी जिलाध्यक्ष व अन्य स्थानीय नेताओं पर है. वही अपनी कमेटी बनाकर प्रत्याशी चुनकर चुनाव लड़ाएं और जीत दर्ज करें.' ये बातें प्रदेश सरकार के लोनिवि मंत्री शिवपाल यादव ने कही. मुजफ्फरनगर से वापसी में ट्यूजडे को वह बरेली पुलिस लाइंस में कुछ देर ठहरे थे. इस दौरान उन्होंने शिक्षामित्रों को साथ देने का वादा करते हुए केंद्र पर भी निशाना साधा.

पंचायत चुनाव में स्थानीय नेता दिखाएं दम

शिवपाल यादव ने पंचायत चुनावों का दारोमदार स्थानीय नेताओं के कंधे पर डाल दिया. सूत्रों की मानें तो वीरपाल यादव और अताउर्रहमान के साथ बातचीत में उन्होंने जिला पंचायत की एससी सीट के लिए दमदार प्रत्याशी तलाशने का सुझाव दिया. ऐसे में जहां एक ओर सपा खेमे में हलचल है, तो दूसरी ओर पंचायती चुनाव में स्थानीय नेताओं का दम भी देखने की कवायद करके मंत्री लखनऊ रवाना हुए.

शिक्षामित्रों के साथ है सपा

उन्होंने कहा सपा शिक्षामित्रों के साथ है. हाईकोर्ट के फैसले खिलाफ सपा कोर्ट में याचिका दायर करेगी. लेकिन शिक्षामित्रों को कानून को दायरे में रहना होगा. वहीं, हाल ही में पशु तस्करों के नापाक इरादों को रोकने के दौरान शहीद हुए इंस्पेक्टर मनोज कुमार पांडेय के मामले पर उन्होंने पुलिस को सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए.

प्रदेश के विकास में केंद्र बाधा

उन्होंने कहा कि प्रदेश के विकास कार्यो में केंद्र सरकार बाधा बन रही है. विभिन्न परियोजनाओं के लिए बजट मांगा गया, लेकिन केंद्र सरकार ने देने से मना कर दिया. हाल ही में कृषि और सिंचाई विभाग के लिए मांगे गए 280 करोड़ का बजट भी पास नहीं किया. केंद्र सरकार प्रदेश में विकास की अनदेखी कर रही है. प्रदेश सरकार के पास बजट की कोई कमी नहीं है, लेकिन केंद्र की परियोजना के लिए बजट जारी करने के पक्ष में नहीं.

नहीं चाहिए रिवाइज एस्टीमेट

पीडब्ल्यूडी मंत्री ने अधिकारियों की जिम्मेदारी देते हुए कहा कि वह तय समय सीमा के भीतर काम को पूरा करे. ताकि कोई रिवाइज एस्टीमेट भेजने की नौबत ही न आ सके. उन्होंने पीडब्ल्यूडी और सिंचाई विभाग द्वारा लगातार भेजे जा रहे रिवाइज एस्टीमेट को भेजने से मना किया.