डाटा आैर काॅलिंग अलग-अलग आॅपरेट से लेने की आजादी
नर्इ दिल्ली (पीटीआर्इ)।
दूरसंचार विभाग ने नये दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं। अब ग्राहकों को मोबाइल कंपनी बदलने पर नया सिम खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सरकार ने र्इ-सिम यानी एंबेडेड सिम के प्रयोग को मंजूरी दे दी है। इसी वजह से एेसा संभव हो सकेगा। र्इ-सिम डिवाइस में ही इंस्टाॅल कर दिया जाएगा, जिसमें सर्विस प्रोवाइडर नया कनेक्शन लेते वक्त ही डिटेल अपडेट कर देगा। यही व्यवस्था कंपनी बदलने पर भी होगी। इसमें ग्राहकों को यह भी आजादी रहेगी कि वह चाहे तो काॅलिंग की सुविधा किसी एक आॅपरेटर से ले आैर डाटा की सुविधा किसी दूसरे आॅपरेटर से ले सकता है।

एमटूएम आैर आर्इआेटी टेक्नोलाॅजी से यह होगा संभव
डिपार्टमेंट अाॅफ टेलीकाॅम यानी डाॅट ने कहा कि मशीन टू मशीन (एमटूएम) आैर इंटरनेट आॅफ थिंग्स (आर्इआेटी) जैसी आधुनिक तकनीकों के विकास को देखते हुए र्इ-सिम (एंबेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी माॅड्यूल) को मंजूरी देने का फैसला लिया गया है। मंजूरी के तहत सिंगल आैर मल्टीपल प्रोफाइल कन्फिगरेशन की सुविधा होगी, जिसमें जरूरी पड़ने पर ग्लोबल मानकों के अनुसार एयर सब्सक्रिप्शन अपडेट किया जा सकेगा। यह नर्इ गाइडलाइन रिलायंस जियो आैर भारती एयरटेल द्वारा र्इ-सिम सर्विस से लैस एेपल वाॅच की बिक्री शुरू करने के तीन बाद जारी की गर्इ है।

एेपल वाॅच सिरीज-3 र्इ-सिम की सुविधा से है लैस
एेपल वाॅच सिरीज-3 के यूजर र्इ-सिम के जरिए स्मार्ट वाॅच को अपने मोबाइल के सिम से कनेक्ट हो सकते हैं। यह सुविधा रिलायंस जियो आैर एयरटेल ने मोबाइल फोन या स्मार्टवाॅच के जरिए उपलब्ध करार्इ है। डाॅट ने प्रोफाइल अपडेशन की मंजूरी दे दी है। इसमें र्इ-सिम पर मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा भी होगी। इससे टेलीकाॅम कंपनियां किसी डिवाइस को अपने यूज के लिए लाॅक नहीं कर सकेंगी। डाॅट ने टेलीकाॅम कंपनियों को निर्देश दिया है कि वे र्इ-सिम पर ग्राहकों को कानूनी तौर पर नियमों के तहत सुविधाएं मुहैया कराए। साथ ही टेलीकाॅम कंपनियों को इस बात के लिए भी जिम्मेदार बनाया है कि डिवाइस निर्माता कंपनियां र्इ-सिम से छेड़छाड़ न कर सकें।

कार में पेट्रोल कम होने पर सिम भेजेंगे अलर्ट मैसेज
अपने दिशानिर्देश में डाॅट ने कहा है कि सिम का मशीन टू मशीन कम्यूनिकेशन के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। जैसे कार में पेट्रोल खत्म होने पर मोबाइल पर मैसेज आएगा। कार की खराब पुर्जों की जानकारी भी मोबाइल पर मिल सकेगी। इसके साथ ही कार चोरी, अपने परिसर की निगरानी आैर स्मार्टमीटर जैसे तमाम अलर्ट मोबाइल पर पा सकेंगे। इससे पहले डाॅट ने सिम से मशीन टू मशीन कम्यूनिकेशन के लिए 13 डिजिट नंबर जारी करने के लिए कंपनियों को निर्देश दिए थे। एमटूएम के लिए ज्यादा सिम की जरूरत होगी इसलिए डाॅट ने प्रति व्यक्ति सिम लिमिट की संख्या बढ़ा कर 18 कर दी है। इसमें 9 सिम सामान्य मोबाइल फोन में प्रयोग के लिए हैं। अन्य 9 सिम एमटूएम कम्यूनिकेशन के लिए खरीदे जा सकेंगे।

आपके आधार नंबर पर किसी को भी दे रहे सिम, री-वेरिफिकेशन के नाम पर सिम धांधली में UIDAI की चेतावनी

आपका आधार नंबर कहीं मिसयूज तो नहीं हो रहा? 1 मिनट में जानिए यहां...

विश्व दूरसंचार दिवस: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से मोबाइल यूजर्स को होंगे ये चार फायदे

Business News inextlive from Business News Desk