JAMSHEDPUR: ग्रेजुएट कॉलेज बीएड एडमिशन में हुई अनियमितता की जांच रिपोर्ट 13 अक्टूबर से पहले जमा की जाएगी. विश्वविद्यालय जांच टीम के चेयरमैन सह कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) के प्रवक्ता एके झा ने बताया कि जांच रिपोर्ट बनाई जा रही है. दो दिन दिल्ली में रुकना है. दिल्ली से लौटने के बाद जांच की अंतरिम रिपोर्ट केयू की वीसी को सौंपनी है. इसके बाद विश्वविद्यालय के स्तर से कार्रवाई तय है. वर्तमान में कॉलेज ने चौथे लिस्ट का प्रकाशन कर दिया है. इस लिस्ट के अनुसार नामांकन लेने की समय सीमा भी 11 अक्टूबर को समाप्त हो रही है. उन्होंने कहा कि नामांकन रद होने की सूचना कॉलेज को सार्वजनिक रूप से दी जानी चाहिए और नोटिस चस्पा किया जाना चाहिए. यह गलत चीजों की ओर इशारा करता है. एडमिशन कमेटी ने अपना कार्य सही तरीके से नहीं किया है और 30 छात्राओं के नामांकन रद होने की सूचना विश्वविद्यालय को दे दी है. इसके बाद विश्वविद्यालय ने तीन सदस्यीय जांच टीम का गठन किया. जांच टीम के चेयरमैन ने कहा कि बीएड नामांकन को लेकर विश्वविद्यालय की ओर से कई निर्देश दिए गए है, उस आधार पर कॉलेज को नामांकन लेना चाहिए था. कॉलेजों को यथाशीघ्र सीट भरने का निर्देश दिया गया है.

रिपोर्ट पर निर्भर है राशि की वापसी

ग्रेजुएट कॉलेज प्रबंधन द्वारा तीस छात्राओं का नामांकन रद होने के बाद उनकी जमा राशि केयू की जांच टीम की रिपोर्ट पर निर्भर है. नामांकन रद होने वाली छात्राओं का पूर्णत: नामांकन रद होगा या फिर इसमें से कितनी छात्राओं का नामांकन फिर से होगा यह स्पष्ट नहीं है. चौथी लिस्ट में इन तीस छात्राओं में से पांच छात्राओं का नाम भी शामिल है. इस कारण रिपोर्ट के बाद छात्राओं की सुरक्षित जमा राशि की वापसी पर विचार किया जा सकता है. मालूम हो कि इन तीस छात्राओं ने बीएड नामांकन में लगभग नौ लाख रुपया जमा किया है.