भर्तियों को क्लब करने की योजना बना रहा अधीनस्थ चयन आयोग

आई एक्सक्लूसिव

- एक दिन में तीन पालियों में एग्जाम कराने की है तैयारी

स्त्रद्गद्यद्बश्च.ढ्डद्बह्यह्ल@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

-----------

-141 वर्गो के हैं 6000 खाली पद

-3 साल से लगातार भर्तियों में जुटा है आयोग

-700 रिक्त पदों पर अब तक हो चुकी हैं भर्तियां

----------------------------

DEHRADUN: तीन साल पहले अस्तित्व में आए उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के पास ग्रुप-सी की भर्तियों की फेहरिस्त लंबी होती जा रही है. आयोग को क्ब्क् वर्गो में म् हजार कर्मचारियों के पद भरने के लिए परीक्षा कराने की जिम्मेदारी मिल चुकी है. इतने पदों पर भर्तियां करने के लिए आयोग को कम से कम दो साल लगेंगे.

700 से ज्यादा पदों पर हुई भर्ती

राज्य सरकार ने ख्0क्ब् में ग्रुप-सी की भर्तियों के लिए अलग से उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग का गठन किया था. इसके बाद पिछले तीन सालों से लगातार आयोग एक के बाद एक खाली पदों पर भर्तियां कर रहा है. अब तक आयोग ने सात सौ से ज्यादा पदों पर भर्तियां कर ली हैं, लेकिन अब आयोग के पास क्ब्क् वर्गो के लिए म् हजार से भी ज्यादा भर्तियों की जिम्मेदारी है. आयोग का अनुमान है कि इन भर्तियों को पूरा कराने के लिए दो साल तक का वक्त लग सकता है. इसको देखते हुए अब आयोग भर्तियों को क्लब कराने के भी मूड है, जिससे जल्द से जल्द भर्तियां पूरी की जा सके.

कुछ कैंडिडेट्स को होगा नुकसान

राज्य अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के चेयरमैन एस राजू के अनुसार तेजी से भर्तियां कराने के लिए आयोग अब तीन पालियों में परीक्षा कराने की तैयारी कर रहा है. लेकिन, ऐसे में उन कैंडिडेट्स को नुकसान उठाना पड़ सकता है, जिन्होंने कई पदों के लिए अलग-अलग सेंटर्स का ऑप्शन भरा है. तीन पालियों में परीक्षा होगी तो यह संभव नहीं हो पाएगा कि एक ही कैंडिडेट तीन सेंटर्स पर जाकर एग्जाम अटैंप्ट कर सके.

दिया जाएगा स्टाफ

मई और जून के महीने में आयोग द्वारा कई परीक्षाएं आयोजित कराया जाना प्रस्तावित किया गया है. आयोग का कहना है कि उसके पास स्टाफ की कमी है. इसके चलते परीक्षाएं संपन्न कराने में दिक्कतें आ रही हैं. हालांकि, शासन ने आयोग को स्टाफ मुहैया कराने का आश्वासन दिया है.

इन पदों के लिए होना है एग्जाम

अमीन, उद्यान पर्यवेक्षक, अवर अभियंता, राजस्व सहायक, मत्स्य निरीक्षक, सहायक अध्यापक, कनिष्ठ लेखा, कनिष्ठ सहायक, आशुलिपिक, सींचपाल.

वर्जन

हमारी कोशिश है कि जल्द से जल्द भर्तियां कर ली जाएं. इसके लिए तमाम संसाधन जुटाए जा रहे हैं. तेजी से भर्तियां कराने के लिए आयोग अब तीन पालियों में परीक्षा कराने की तैयारी कर रहा है.

-एस राजू, चेयरमैन, राज्य अधीनस्थ सेवा चयन आयोग