-लंदन में पढ़ाई करेंगे गणेशियंस

- जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट फेलोशिप प्रोग्राम के तहत कर सकेंगे किंग्सटन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई

- यूके बेस्ड जीएसवीएम के एल्यूमिनाई की पहल के बाद किंग्सटन यूनिवर्सिटी से होगा एमओयू, तैयार हो रहा मसौदा

KANPUR: यूपी के सबसे बड़े गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट्स को जल्द ही यूके में भी पढ़ाई करने का मौका मिल सकेगा। एक इंटर एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज, यूके की किंग्सटन यूनिवर्सिटी के साथ एफिलिएशन करेगा। जिससे कॉलेज के मेडिकल स्टूडेंट्स को लंदन की इस यूनिवर्सिटी में चलने वाले अलग-अलग तरह के फेलोशिप प्रोग्राम्स का हिस्सा बनने का मौका मिल सकेगा। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के लिए इस समझौते में यहीं के एक एल्युमिनाई अहम भूमिका निभा रहे हैं जोकि काफी वक्त से लंदन में ही रह रहे हैं। समझौते का प्रारुप तैयार करने की जिम्मेदारी मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल डॉ। आरती लालचंदानी ने न्यूरो सर्जरी विभाग के हेड डॉ। मनीष सिंह को साैंपी है।

एमडी व एमएस के स्टूडेंट

दरअसल यूके की किंग्सटन यूनिवर्सिटी के साथ जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के होने वाले समझौते के तहत यहां के एमडी और एमएस के स्टूडेंट्स को लंदन में रह कर अलग-अलग प्रोग्रामों में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। डॉ। मनीष सिंह ने बताया कि अभी कई स्पेशलाइज्ड प्रोग्राम के लिए मेडिकल स्टूडेंट्स को पढ़ाई पूरी करने के बाद विदेश जाना पड़ता है। लेकिन किंग्स्टन यूनिवर्सिटी के साथ होने वाले समझौते में एमडी और एमएस की पढ़ाई के दौरान ही अगर किसी यूनिवर्सिटी के किसी फेलोशिप प्रोग्राम में रेजीडेंट इनरोल होना चाहता है तो उसे कॉलेज लेवल पर ही मदद मिलेगी।

बॉक्स

एमओयू के लिए तैयारी शुरू

जीएसवीएम मेडिकल कालेज में पढ़ चुके एल्युमिनाई डॉ। जयशंकर मिश्रा इस समझौते में अहम भूमिका निभा रहे हैं। वह काफी समय से यूके में ही रह रहे हैं। बीच-बीच में वह जीएसवीएम भी आते रहते हैं। पिछली बार जब वह यहां आए तो उन्होंने एफिलिएशन के लिए मदद करने की बात कही थी। जिसके बाद मेडिकल कालेज प्रिंसिपल ने भी इस मामले में पहल की। डॉ। मनीष सिंह ने बताया कि इससे यहां के स्टूडेंट्स को काफी फायदा मिलेगा। इस समझौते के लिए शर्तो और दूसरी चीजों को ध्यान में रखते हुए मसौदा तैयार किया जाहा है।

वर्जन-

यूके में हमारे मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट्स को पढ़ाई का मौका मिले, इसके लिए अपने संस्थान के ही एल्यूमिनाई रहे डॉ। जयशंकर मिश्रा मदद कर रहे हैं। समझौते का प्रपोजल तैयार करने की जिम्मेदारी डॉ। मनीष सिंह को दी है।

- डॉ। आरती लालचंदानी, प्रिंसिपल जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज