गुरु के आशीर्वाद से हर व्यक्ति को ज्ञानधन प्राप्त होता है। यह वह धन है, जिसे कोई चुरा नहीं सकता, कभी नष्ट नहीं होता और जीवन में हर भौतिक-आध्यात्मिक सुख प्राप्त करने में व्यक्ति को सक्षम बनाता है।

किसी भी व्यक्ति के प्रथम गुरु माता-पिता होते हैं, दादाजी और परिवार के बुजुर्ग गुरु के प्रतिनिधि हैं तो ज्ञान प्रदान करनेवाले प्रत्यक्ष गुरु हैं। इनकी सेवा-सम्मान से प्राप्त आशीर्वाद, जीवन के समस्त सुख प्रदान करता है।

आइए जानते हैं ज्‍योतिषाचार्य पंडित श्रीपति त्रिपाठी से कि  गुरु के आशीर्वाद से विभिन्न राशि/लग्रवालों को अलग-अलग क्या विशेष लाभ भी प्राप्त होते हैं।  

मेष राशि/लग्रवालों का भाग्योदय होता है तथा सफल विदेश यात्रा का सुख मिलता है।

वृषभ राशि/लग्रवालों को कष्टों से मुक्ति मिलती है तथा आयवृद्धि होती है।

मिथुन राशि/लग्रवालों को पारिवारिक सुख मिलता है और रोजगार/व्यवसाय के अवसर प्राप्त होते हैं।

कर्क राशि/लग्रवालों का भाग्योदय होता है तथा ऋण, रोग और शत्रु से मुक्ति मिलती है।

गुरु पूर्णिमा: गुरु आशीर्वाद से मेष राशिवालों का होगा भाग्योदय,विदेश यात्रा का मिलेगा सुख

सिंह राशि/लग्रवालों को संतान सुख प्राप्त होता है तथा सर्वकष्ट से मुक्ति मिलती है।

कन्या राशि/लग्रवालों को भौतिक सुखों की प्राप्ति के साथ-साथ पारिवारिक सुख मिलता है।

तुला राशि/लग्रवालों का पराक्रम बढ़ता है, पदोन्नति होती है तथा ऋण, रोग एवं शत्रु पर विजय प्राप्त होती है।

वृश्चिक राशि/लग्रवालों को धनसंचय का लाभ प्राप्त होता है तथा संतान सुख मिलता है।

गुरु पूर्णिमा: गुरु आशीर्वाद से मेष राशिवालों का होगा भाग्योदय,विदेश यात्रा का मिलेगा सुख

धनु राशि/लग्रवालों को संपूर्ण सुख की प्राप्ति होती हैं।

मकर राशि/लग्रवालों को पद-पदोन्नति के साथ-साथ विदेश में कामयाबी मिलती है।

कुंभ राशि/लग्रवालों को विशेष धनलाभ होता है।

मीन राशि/लग्रवालों को कार्यक्षेत्र में विशेष लाभ के साथ-साथ संपूर्ण सुख की प्राप्ति होती है।

सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण आज, जानें सूतक काल, क्या न करें?

देवऋषि नारद क्यों रह गए अविवाहित? इस कथा से जानें उनके हमेशा भ्रमण करने का कारण