तीज व्रत का महत्व
हिंदू माइथॉलॉजी के अकॉर्डिंग मां पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए तीज का व्रत किया था. जिससे खुश होकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिए थे और बाद में उनसे विवाह भी किया था. ऐसा माना जाता है कि अगर कुवांरी लड़कियां इस व्रत को करें तो उन्हें मनचाहा व्रत प्राप्त होता है. सुहागिन महिलाओं के यह व्रत करने पर उनके पति की आयु लंबी होती है और दंपति की जिंदगी में खुशियां आती हैं.  

निर्जला व्रत है तीज
हरितालिका तीज पर सुहागिन महिलाएं निर्जला उपवास रख कर भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा करती हैं और अखंड सौभाग्य की प्रार्थना करती हैं. इसके लिए बुधवार से ही देश भर में तैयारियां शुरू हो गई. पंडितों की मानें तो इस बार व्रत का अनुष्ठान बुधवार की रात से ही शुरू हो गया पर तीज गुरूवार को मनायी जाएगी. इस दिन पूरे दिन निर्जला व्रत कर शिव-पार्वती की पूजा की जाती है और व्रत की कथा सुनकर पति की लंबी उम्र की कामना की जाती है. पंडितों के मुताबिक इस बार की तीज विशेष है क्योंकि इसमें एक अद्भुत संयोग बन रहा है जिसमें भगवान शंकर और माता पार्वती का पूजन श्रेष्ठ फलदायी है.

तीज की रौनक से बाजार जगमगाए

तीज के दिन सभी महिलाएं मेंहदी लगाती हैं. नए कपड़े, गहने और सुहाग की निशानियां जैसे चूड़ी,बिंदी वगैरह की शॉपिंग भी करती हैं. हरितालिका तीज के मौके पर बुधवार को बाजारों में रौनक रही. इस दौरान शादी शुदा महिलाओं ने जमकर खरीदारी की. एक ओर जहां महिलाओं ने चूड़ी, बिंदी जैसे सुहाग के सामानों की खरीदारी की तो वहीं दूसरी ओर सभी ने मेंहदी लगवाई.

Hindi News from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk