केंद्र सरकार ने दिया निर्देश, पायलट प्रोजेक्ट में शामिल इलाहाबाद
vineet.tiwari@inext.co.in
ALLAHABAD: बेहतर इलाज के लिए हॉस्पिटल्स में रेफर किए जाने की परेशानी से मरीजों को निजात मिलने वाली है. इसके लिए जिले के पांच सौ से अधिक हेल्थ सब सेंटर्स को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में अपग्रेड किया जा रहा है. यहां जरूरी परामर्श, जांच सहित दवाएं भी उपलब्ध होंगी. केंद्र सरकार की ओर से इस संबंध में निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं. इस पायलट प्रोजेक्ट के पहले चरण के लिए गिनती के कुछ शहरों में इलाहाबाद को भी चुना गया है.

555 सेंटर्स होंगे अपगे्रड
फिलहाल जिले में 555 हेल्थ सब सेंटर हैं. इनमें टीकाकरण और परिवार नियोजन की जानकारी दी जाती है. सरकार चाहती है कि इन सेंटर्स को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के रूप में डेवलप किया जाए. ताकि लोगों को इलाज के लिए हॉस्पिटल्स में रेफरल से बचाया जा सके. यही कारण है कि जिले के सब सेंटर्स को भविष्य में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में बदलने की तैयारी शुरू हो गई है. इसके लिए सरकार ने बजट भी एलॉट कर दिया है.

सेंटर्स पर उपलब्ध होंगी ये जांच

- हीमोग्लोबिन

- टीएलसी, डीएलसी, पेरिफेरल स्मेयर

- ब्लड ग्रुपिंग

- मूत्र द्वारा गर्भ की जांच

- अल्बोमिन व ग्लूकोज की जांच

- ब्लड ग्लूकोज

- मलेरिया की जांच

- डेंगू, चिकनगुनिया, फाइलेरिया, मलेरिया, कालाजार

- रैपिड सिफलिस

- टायफायड टेस्ट

- हेपेटाइटिस टेस्ट

- बलगम जांच

मिलेंगी ये स्वास्थ्य सेवाएं

- गर्भावस्था एवं शिशु जन्म देखभाल

- नवजात एवं शिशु स्वास्थ्य देखभाल

- बाल व किशोरावस्था स्वास्थ्य देखभाल

- संचारी रोगों का प्रबंधन

- वाह्य रोगियों की साधारण बीमारियों का उपचार

- परिवार नियोजन, गर्भनिरोधक व प्रजनन स्वास्थ्य देखभाल

- गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग, रेफरल व फॉलोअप

इलाहाबाद को मिली उपलब्धि
केंद्र सरकार ने इस योजना के प्रथम चरण में यूपी के दस शहरों को चुना है, जिनमें इलाहाबाद शामिल है. पहले 30 सेंटर को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में डेवलप किया जाएगा और बाद में बाकी सेंटर्स को भी बदला जाना है. इस चरण में यूपी के बरेली, बस्ती, फर्रुखाबाद, गोरखपुर, झांसी, मेरठ, मिर्जापुर, सीतापुर व वाराणसी को भी शामिल किया गया है.

मरीजों को रेफरल से जूझने से बचाने के लिए हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की शुरुआत की जा रही है. यहां जहां तक संभव हो मरीज को इलाज व दवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी. कई जांचों का प्रबंध भी किया जा रहा है. स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जाने लगा है.

-वीके सिंह, डिस्ट्रिक्ट प्रोजेक्ट मैनेजर, नेशनल हेल्थ मिशन

555 जिले में बनने वाले कुल हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर

10 प्रथम चरण में यूपी में चुने गए शहरों की संख्या

30 सेंटर हैं शुरुआत में अपग्रेड होने वाले

1.30 लाख है प्रत्येक सेंटर का उपलब्ध बजट

17 लाख कुल लाभांवित होने वाली आबादी

भविष्य में दी जाने वाली सुविधाएं

मानसिक स्वास्थ्य

नाक, कान, मुख

आकस्मिक ट्रामा व वृद्धावस्था संबंधित स्वास्थ्य सेवाएं