-डॉक्टर स्टॉफ और सफाई कर्मचारियों को करनी होगी मिनट-टु-मिनट ड्यूटी

-स्वास्थ्य विभाग ने बायोमीट्रिक मशीन पर हाजिरी की बनाई है योजना

dhruva.shankar@inext.co.in

ALLAHABAD: बायोमीट्रिक मशीन उन लोगों की मुश्किलों को और बढ़ाती है जिन्हें अपने काम को छोड़कर दुनिया भर की बातों से मतलब रहता है. लेकिन कुंभ को भव्य और दिव्य बनाने में जुटे विभागों में से एक स्वास्थ्य विभाग ने शत-प्रतिशत उपस्थिति और मिनट-टु-मिनट साफ-सफाई कराने के साथ ही देश दुनिया से आने वाले श्रद्धालुओं हर वक्त बेहतरीन इलाज की सुविधा मुहैया कराने के लिए अभी से ही कड़ा कदम उठाना शुरू कर दिया है. मेले के दौरान विभाग से जुड़े डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टॉफ व सफाई कर्मचारियों के लिए बायोमीट्रिक मशीन पर हाजिरी लगाना अनिवार्य किया है.

पहली बार लागू होगी डिजिटल हाजिरी

संगम की रेती पर प्रतिवर्ष लगने वाला माघ मेला हो या छह वर्ष के अंतराल पर अ‌र्द्ध कुंभ या बारह वर्षो पर लगने वाला कुंभ मेला. अभी तक स्वास्थ्य विभाग की ओर से रजिस्टर पर ही हाजिरी लगाने की परंपरा चली आ रही थी. लेकिन जैसे ही यूनेस्को से कुंभ मेला को सांस्कृतिक विरासत की सूची में शामिल किया गया वैसे ही इसकी महत्ता में कोई कमी ना आने पाए इसके लिए विभाग ने डिजिटल हाजिरी कराने का निर्णय लिया है. इसीलिए अगले वर्ष लगने जा रहे कुंभ मेला में पहली बार बायोमीट्रिक मशीन के जरिए विभाग डिजिटल हाजिरी लगवाने जा रहा है.

कंट्रोल रूम से होगी मानिटरिंग

कुंभ के स्वास्थ्य विभाग ने जो पुख्ता योजना बनाई है उसके अन्तर्गत जहां पर सौ बेड का मेन हॉस्पिटल बनाया जाएगा उसी के बगल में आधुनिक संसाधनों से युक्त कंट्रोल रूम भी स्थापित किया जाएगा. हालांकि मेन हास्पिटल कहां पर बनाया जाएगा इसका निर्णय एक सप्ताह बाद लखनऊ मुख्यालय में होने वाली विभाग के आला अधिकारियों की बैठक में हो जाएगा. लेकिन साफ-सफाई की व्यवस्था हो या बायो मीट्रिक मशीन पर हाजिरी लगाने की बात हो उन सभी की मानिटरिंग कंट्रोल रूम से ही की जाएगी. इसके लिए कंट्रोल रूम में वाकी टाकी, आधा दर्जन कम्प्यूटर और सीसीटीवी कैमरा की व्यवस्था की जाएगी.

नोट

- मेला क्षेत्र में ग्यारह सर्किल हास्पिटल में 423 विशेषज्ञ डॉक्टरों की तैनाती की जाएगी. साथ ही पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या 1509 निर्धारित की गई है.

-मेले के दौरान साफ-सफाई की व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए ढ़ाई हजार सफाई कर्मचारियों की तैनाती की जाएगी. प्रत्येक सेक्टर में सौ से डेढ़ सौ कर्मचारी तैनात किए जाएंगे.

-कंट्रोल रूम में दस-दस कर्मचारियों की तैनाती बारह-बारह घंटे के हिसाब से शिफ्ट वाइज की जाएगी.

-मेन हास्पिटल में दो बायो मीट्रिक मशीन लगाई जाएगी. जबकि ग्यारह सर्किल हॉस्पिटल में एक-एक और फस्ट एड पोस्ट पर भी एक-एक मशीन लगाने की योजना बनाई गई है.

मेला के दौरान स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण रहेगी. रजिस्टर पर हाजिरी की वर्षो पुरानी व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया है. इसकी जगह पर बायोमीट्रिक मशीन की व्यवस्था की जाएगी. उसकी मानिटरिंग कंट्रोल रूम से भी कराई जाएगी. जिसे संसाधनों से लैस किया जाएगा.

डॉ. वीके सिंह, अपर निदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण