jamshedpur@inext.co.in

JAMAHEDPUR : सुरक्षा कारणों से अब अलकायदा के संदिग्ध आतंकी अब्दुल सामी की कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी होगी. उसे शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच जमशेदपुर की अदालत में पेश किया गया. उसका मामला सीजेएम कोर्ट से प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी शेषनाथ सिंह की अदालत में चला गया था. इस कारण उसे शेषनाथ सिंह की अदालत में पेश किया गया. अदालत में न्यायाधीश ने जब नाम पता पूछा तो उसने सामी बताया. इसके बाद अदालत ने अपने आदेश में कहा कि उसे दिल्ली के तिहाड़ जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेशी कराई जाए. अदालत में पेशी की अगली तिथि चार फरवरी तय की है.

दिल्ली से लाया जाता

मालूम हो कि अब्दुल सामी को विशेष सुरक्षा व्यवस्था में पुलिस दिल्ली से जमशेदपुर लेकर आती है. इसमें समय के साथ सरकारी राशि खर्च होती है. सुरक्षा का भी प्रबंध करना पड़ता है. ऐसी स्थिति में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेशी होने से पुलिस को सुविधा होगी. पेशी के बाद कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस उसे बिष्टुपुर थाना ले गई. वहां से उसे ट्रेन से तिहाड़ जेल के लिए दिल्ली ले जाया गया.

धतकीडीह का निवासी है गिरफ्तार अब्दुल सामी

अब्दुल सामी को दिल्ली पुलिस की स्पेशल शाखा ने हरियाणा के मेवात से गिरफ्तार किया था. वह जमशेदपुर के धतकीडीह निवासी अब्दुल सत्तार का पुत्र है. पूछताछ में पुलिस को कई महत्वपूर्ण और चौंकाने वाली जानकारियां मिली थीं. उसने बताया था कि जनवरी 2014 में वह दुबई के रास्ते पाकिस्तान गया. कराची में कुछ दिन रुकने के बाद वह पाकिस्तान के मंसेरा में हथियार चलाने का प्रशिक्षण लेने गया था. इसके बाद जनवरी 2015 में वह भारत आ गया. वह ओडिशा के कटक से गिरफ्तार आतंकवादी अब्दुल रहमान उर्फ कटकी के संपर्क में था.