- टीबी के खिलाफ जंग के लिए ज्वाइंट एफर्ट फॉर एलिमिनेशन ऑफ टीबी (जीत) प्रोग्राम लॉन्च

- डीजी हेल्थ ने किया प्रोग्राम लॉन्च, देहरादून सहित हरिद्वार और नैनीताल में संचालित होगा प्रोग्राम

देहरादून: टीबी उन्मूलन में प्राइवेट डॉक्टर्स की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने के मकसद से दून सहित तीन जिलों में ज्वाइंट एफर्ट फॉर एलिमिनेशन ऑफ टीबी (जीत) प्रोग्राम लॉन्च किया गया है. दून के अलावा हरिद्वार व नैनीताल में प्रोग्राम संचालित किया जाएगा. डीजी हेल्थ ने सोमवार को राजपुर रोड स्थित एक होटल में प्रोग्राम की लॉन्चिंग की.

निजी डॉक्टर्स का मिलेगा सहयोग

जीत प्रोग्राम की लॉन्चिंग के दौरान डीजी हेल्थ डॉ. टीसी पंत ने कहा कि कार्यक्रम के शुरू होने से उन टीबी के मरीजों तक पहुंचने में आसानी होगी, जो किन्हीं कारणों से अस्पताल तक पहुंच पा रहे. स्वास्थ्य से संबंधित राष्ट्रीय कार्यक्रमों में निजी चिकित्सकों की सहभागिता बढ़ने को उन्होंने सुखद संकेत बताया. कहा, जीत कार्यक्रम से इसमें और तेजी आएगी. टीबी पीडि़त मरीज को सरकार द्वारा दिए जाने वाले फ्री ट्रीटमेंट की सुविधा और पौष्टिक आहार मिले, इस प्रोजेक्ट का यही उद्देश्य है. जीत की नेशनल लीड डॉ. भारती ने बताया कि प्रदेश के तीन जिलों में इस कार्यक्रम को शुरू करने की जिम्मेदारी मिली है. उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को भरोसा दिलाया कि उनकी पूरी टीम इसे बखूबी निभाएगी. कार्यक्रम के शुभारंभ पर डॉ. गुरप्रीत कौर ने राज्य में चलाए जाने वाले कार्यक्रम के बारे में संक्षिप्त प्रस्तुतीकरण दिया. इस अवसर पर निदेशक राष्ट्रीय कार्यक्रम डॉ. अंजलि नौटियाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसके गुप्ता, उत्तराखंड एड्स नियंत्रण समिति के अपर परियोजना निदेशक डॉ. वीएस टोलिया, राज्य क्षय नियंत्रण अधिकारी डॉ. वागेश काला, आईएमए की दून शाखा के सचिव डॉ. हंस पाल, डॉ. पुनीत ओहरी, डॉ. परवेश अहमद, डॉ. अंशु श्रीवास्तव, अनूप ममगाई, अनिल सती आदि उपस्थित रहे.