GORAKHPUR: सोमवार को एक बार फिर महज आधे घंटे की बारिश में ही शहर के कई हिस्सों में घुटनों तक पानी लग गया. साथ ही बारिश के कारण कई जगहों पर नालियों का पानी ओवरफ्लो होकर बहने लगा. जिससे राहगीरों को काफी समस्या हुई. रुस्तमपुर, अलीनगर, लच्छीपुर, दुर्गाबाड़ी, रेती, मियां बाजार, रसूलपुर, धर्मशाला बाजार, पुराना गोरखपुर, दाउदपुर, रुस्तमपुर, सिविल लाइंस सहित चार दर्जन से अधिक मोहल्लों में पानी लग गया.

जाम ने भी बढ़ाई परेशानी

तेज बारिश के कारण मियां बाजार से रेती, नखास चौक से साहबगंज व बेनीगंज चौराहे से अलीनगर तिराहे तक जाम लग गया. ज्यादा पानी लग जाने के कारण कई लोग बाइक लेकर पानी में देरी तक फंसे रहे. यही हाल नखास से रेती चौक व साहबगंज तक जाने वाली सड़क का भी रहा, जहां लोग घंटों तक लाइन में फंसे रहे. जल निकासी के लिए कई जगहों पर नगर निगम ने पंप की व्यवस्था की थी. उनका कहना है कि नाले-नालियों के चोक होने के अलावा बहुत सी जगहों पर नाले-नालियां क्षतिग्रस्त हैं जिसे ठीक नहीं कराया जा रहा है. अगर मूसलाधार बारिश हुई तो लोगों को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

बॉक्स

जलभराव से परेशान दिग्विजय नगर

बारिश होते ही नगर निगम के कुछ वार्डो में नागरिकों की समस्या बढ़ जाती है. उनमें से ही एक है वार्ड नंबर 12 दिग्विजय नगर. वार्ड के कई हिस्सों में बरसात की शुरुआत से ही लोगों को जलभराव का सामना करना पड़ रहा है. पार्षद ऋषि मोहन वर्मा ने निगम प्रशासन को समस्या से अवगत कराया तो उन्हें मलबा डालकर अस्थायी समाधान का आश्वासन दिया गया. पार्षद ने आरोप लगाया कि एक महीने पहले निगम के अधिकारी वार्ड में निरीक्षण करने आए थे, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है.

वर्जन

बारिश की रफ्तार ज्यादा होने के कारण कुछ जगहों पर जलभराव हुआ है. जलनिकासी के लिए वहां पंप लगाया गया है. दूसरी तरफ जलभराव के लिए लोग नगर निगम को जिम्मेदार मान रहे हैं.

- डॉ. मुकेश रस्तोगी, मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी