बनियापुर प्रखंड के बंगालीपट्टी नहर के पास हुई घटना

patna@inext.co.in

CHAPRA/PATNA : बनियापुर प्रखंड के बंगाली पट्टी नहर के पास बुधवार को 11 हजार वोल्ट के हाईटेंशन तार टूटकर स्कूल वैन पर गिरने से दो बच्चों की मौत हो गई जबकि वैन चालक सह ¨प्रसिपल झुलस गए. उन्हें प्राइवेट क्लीनिक में एडमिट कराया गया है. स्कूल के सभी कर्मी फरार हैं. सूचना मिलते ही सदर एसडीओ चेतनारायण प्रसाद घटनास्थल पर पहुंचे. पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंचकर दोनों शव को कब्जे में ले ली है. मृतकों में एक छात्र और एक छात्रा शामिल है.

प्रिंसिपल चला रहे थे वैन

जानकारी के अनुसार कमता गांव स्थित प्राइवेट स्कूल में छुट्टी होने के बाद वैन से स्कूल बच्चे घर जा रहे थे. स्कूल वैन ¨प्रसिपल राजेश्वर गिरी चला रहे थे. वैन जैसे ही बंगाली पट्टी के पास पहुंची ऊपर से गुजर रहे 11 हजार बोल्ट का हाईटेंशन तार टूट कर गिर पड़ा. जिसकी चपेट में वैन आ गया. वैन पर विद्युत तार के गिरने से दो बच्चे पूरी तरह झुलस गए जिससे उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई. वही चालक महेश्वर गिरी झुलस गए. जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया.

वैन में नौ बच्चे थे सवार

वैन में नौ बच्चे सवार थे जिनमें से 7 बच्चों को सकुशल बाहर निकाला गया. मृत बच्चों की पहचान छितौनी गांव निवासी जयकिशोर के छह वर्षीय पुत्र रौशन कुमार और कमता गांव निवासी श्रीभगवान प्रसाद की छह वर्षीय पुत्री आदित्या कुमारी के रूप में हुई है.

बाहर निकले बच्चों में खौफ

इस घटना के बाद से बाहर निकले बच्चों में काफी खौफ है. घटना को लेकर लोगों में विद्युत विभाग की कार्यशैली को लेकर काफी नाराजगी है. मौके पर पहुंची पुलिस हालात को नियंत्रित करने के लिए काफी मशक्कत करती रही. वरीय अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच चुके थे.

मौत के बाद मची अफरा-तफरी

दो बच्चों की मौत के बाद वहां अफरा-तफरी का माहौल हो गया. बच्चों के कोहराम को सुनकर स्थानीय लोगों को समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करें. इसी बीच एक महिला ने सूझबूझ का परिचय दिया और बच्चों को वैन से बाहर निकालने में प्राचार्य की मदद की. जब तक बच्चों को बाहर निकाला जाता तब तक दो बच्चे पूरी तरह झुलस चुके थे, लेकिन सात बच्चों को बाहर निकाल लिया गया. मौत को अपनी आंखों से देखने के बाद बच्चों में काफी दहशत है. वे कुछ भी बताने से इनकार कर रहे है. वहीं मृत बच्चों के घर में कोहराम मचा हुआ है.

7 बच्चों को सुरक्षित निकाला

तार की चपेट में आने के पूर्व ही छितौनी निवासी लगुना कंवर गाड़ी को घटना स्थल पर पहुंचने से पूर्व ही चालक को सतर्क किया था. चालक को बताया था कि आगे बिजली का तार टूटकर गिरा हुआ है. लेकिन चालक ने महिला की बात को टाल दिया. आगे बढ़ते ही गाड़ी तार की चपेट में आ गई. लेकिन उसके बाद उक्त महिला ने अपनी जान पर खेल कर 7 बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया.

मृत बच्चों के घर कोहराम

मृत 6 वर्षीय च्च्चा रौशन कुमार और 6 वर्षीय च्च्ची आदित्या कुमारी के परिजनों में चीख पुकार मची रही. परिजनों को पहले विश्वास ही नहीं हुआ कि जिस च्च्चे को सुबह टीफीन और वाटर बोतल के साथ सुरक्षित स्कूल के गाड़ी से भेजा था, उसकी अचानक मौत की खबर मिलेगी. घटना के बाद से मृत च्च्चे की मां और परिजन दहार मारकर रो पड़े.

विद्युत विभाग द्वारा जर्जर विद्युत तारों एवं पोल को नहीं बदला जाना जानलेवा साबित हो रहा है. जर्जर विद्युत तारों के टूटने के कारण आए दिन दुर्घटनाएं होती रही है. बावजूद इसके बिजली विभाग के द्वारा इन जर्जर विद्युत तारों को बदला नहीं जा रहा हैं.

पेड़ से टकराई बस, दर्जनभर बच्चे जख्मी

मशरक में बुधवार को च्च्चों को लेकर स्कूल जा रही मिनी बस पेड़ से टकराने से दुर्घटनाग्रस्त हो गई. बस में सवार करीब एक दर्जन च्च्चे घायल हो गए. घायल च्च्चों को मशरक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया गया. रवि कुमार, प्रिया कुमारी, मुन्ना कुमार, सत्यम कुमार, शैलेन्द्र कुमार और अंशु कुमारी सहित करीब एक दर्जन च्च्चे जख्मी हैं. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बस च्च्चों को लेकर स्कूल जा रही थी. जजौली पंचायत से आगे साइकिल सवार को बचाने के क्रम में बस पेड़ से टकरा गई.

'बनियापुर हादसे की जानकारी मिली है. यह काफी दुखद घटना है. सभी जर्जर तारों को बदलने के लिए कार्य प्रारंभ कर दिया गया है दिसंबर तक सभी जर्जर तारों को बदल दिया जाएगा.'

- गौरव कुमार, विद्युत अधीक्षण अभियंता