- सुप्रीम कोर्ट के फटकार के बाद केंद्र ने दिखाई सजगता

आगरा. चमक खोते ताज पर प्रशासन की बेरूखी ने सुप्रीम कोर्ट को चिंता करने के लिए मजबूर कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई तो केंद्र सरकार ने ताजमहल के संरक्षित और बेहतर रख-रखाव को लेकर पहल की है. सरकार के मंत्री समेत राज्य के मुखिया समेत आला अधिकारी जल्द ही बैठक करेंगे और उम्मीद जताई जा रही है कि इसमें ताजमहल के संरक्षण को लेकर ठोस योजना बनाई जाएगी.

ताज के संरक्षण को होगी बैठक

ताजमहल के संरक्षण और रखरखाव को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक केंद्रीय मंत्री की अध्यक्षता में दिल्ली में होगी. इसमें संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा के साथ कई विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहेंगे. बैठक में खूबसूरती खोते ताजमहल बचाने और उसके रखरखाव पर क्या-क्या किया जाना है. ऐसा एक मजबूत प्लान तैयार किया जाएगा. इसमें समय-सीमा पर काम पूरा करना भी प्राथमिकता में होगी. जिससे कम समय में ताज की पुराने स्वरूप की रौनक लौटाई जा सके. इसमें सुप्रीम कोर्ट की फटकार पर भी ध्यान दिया जाएगा और संरक्षण के प्लान पर सुप्रीम कोर्ट को भी जानकारी दी जाएगी.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था तो ढहा दो

सुप्रीम कोर्ट ने कुछ दिनों पहले ही केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार को ताजमहल के रखरखाव और बेरूखी पर फटकार लगाई गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने इसके अस्तित्व को लेकर सामने आ रही चुनौतियों, सरकार के रुख और उसकी ओर से बरती जा रही ढिलाई पर नाराजगी जाहिर की थी. दरअसल तमाम स्टडी और रिपोर्ट से सामने आया है कि ताज अपना रंग बदल रहा है. अपनी दूधिया संगमरमरी खूबसूरती के लिए नामचीन ताज पीला पड़ रहा है. कोर्ट ने ताज के इस हालात पर संज्ञान लेते हुए अपने हालिया रुख में केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए यहां तक कह दिया कि अगर सरकार ताज की देखभाल नहीं कर सकती तो इसे या तो बंद कर दें या फिर इस विश्व धरोहर को ढहा दिया जाए.