इस्लामाबाद/कराची (पीटीआई)। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ करने का मामला सामने आया है। उपद्रवियों ने मंदिर में रखे पवित्र किताबों और मूर्तियों को जला दिया। इस घटना के बाद पाकिस्तान के प्रधनमंत्री इमरान खान ने इस काम के लिए आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। बता दें कि यह घटना पिछले सप्ताह खैरपुर जिले के एक कस्बे कुंब में हुई थी। अज्ञात हमलावर तोड़फोड़ करने के बाद भाग गए। खान ने मंगलवार की रात ट्विटर के जरिये प्रांतीय अधिकारियों को दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने के लिए कहा। खान ने कहा, 'सिंध की सरकार को अपराधियों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई करनी चाहिए। यह कुरान की शिक्षाओं के खिलाफ है।'

हिंदुओं ने शुरू किया विरोध

हिंदू समुदाय ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज कराने के लिए पुलिस से संपर्क किया है। लोगों का कहना है कि मंदिर में कोई देखभाल करने वाला नहीं था, हिंदू समुदाय को लगता था कि यह काफी सुरक्षित है क्योंकि मंदिर उनके घरों से घिरा हुआ है। इस घटना के बाद, उस इलाके के हिंदुओं ने शहर में विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। पाकिस्तान हिंदू काउंसिल के सलाहकार राजेश कुमार हरदसानी ने हिंदू मंदिरों की सुरक्षा के लिए एक स्पेशल टास्क फोर्स बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा, 'इस घटना से हिंदू समुदाय में अशांति फैल गई है। इस प्रकार के हमले पूरे देश में धार्मिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश करते हैं।'


सिर्फ दो प्रतिशत हैं हिंदू
पुलिस का कहना है कि वे हमलावर की तलाश में जुटे हैं लेकिन अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। फिलहाल किसी भी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। बता दें कि मुस्लिम बहुल पाकिस्तान में 220 मिलियन की आबादी में हिंदू लगभग दो प्रतिशत हैं। सिंध प्रांत में ज्यादातर हिंदू रहते हैं। वे अक्सर चरमपंथियों द्वारा उत्पीड़न का शिकार होते हैं।

International News inextlive from World News Desk