-शाहजहांपुर का युवक बदायूं की युवती से करेगा शादी

-दोनों पक्षों में बनी सहमति, जल्द बंधेंगे शादी के बंधन में

BAREILLY :

एचआईवी पीडि़त जिंदगी से लड़ने के लिए एक से दो हो सकें. इसके लिए उन्हें किसी एचआईवी पीडि़त से ही वैवाहिक बंधन में जुड़ने की मुहिम चला रहा है. एआरटी अपने प्रयास में सफल भी हो रहा है. जल्द ही शाहजहांपुर निवासी युवक और बदायूं निवासी महिला जल्द ही शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं. दोनों के परिवारों में भी उनकी शादी के लिए सहमति बन चुकी है, लेकिन अभी शादी का कोई मुहूर्त न होने के चलते अभी शादी की डेट तक नहीं हो सकी है. ऐसे में नवम्बर या दिसम्बर में दोनों शादी के बंधन में बंध सकते हैं.

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में हुई मुलाकात

शाहजहांपुर निवासी एचआईवी पॉजिटिव एक युवक कारोबारी है. युवक की शादी चार वर्ष पहले हुई थी, लेकिन हादसे में उसकी पत्नी की मौत हो गई. जिसके बाद से वह अकेले ही रहने लगा. इस दौरान उसे एचआईवी पॉजिटिव हो गया. जांच कराने के दौरान जानकारी हुई तो वह एआरटी बरेली डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल से इलाज करा रहा है. रजिस्ट्रेशन के दौरान उसने एआरटी से मिले फार्म में किसी एचआईवी पॉजिटिव से शादी के लिए टिक किया था.

बदायूं की महिला से होगी शादी

बदायूं निवासी महिला के पति की भी मौत हो गई थी. महिला की शादी एक वर्ष पहले ही हुई थी उसके कोई बच्चा भी नहीं था. जिसके बाद महिला ससुराल छोड़कर मायके आकर रहने लगी. महिला बीमारी हुई तो डॉक्टर्स ने उसकी एचआईवी की जांच कराई तो वह भी पॉजिटिव निकली. जिसके बाद वह भी एआरटी सेंटर बरेली में रजिस्टर्ड हुई और दवा लेने के लिए आने लगी. महिला ने भी एचआईवी पॉजिटिव से शादी के लिए इच्छा जाहिर की.

दोनों में बनी सहमति

एआरटी सेंटर पर दोनों की दवा लेने के आने के दौरान बातचीत होने लगी. जिसके बाद दोनों में शादी की बात भी तय हो गई. अब दोनों पक्ष नवम्बर या फिर दिसम्बर में शादी के बंधन में बंध जाएंगे.

पहले भी हो चुकी हैं शादियां

ज्ञात हो एआरटी सेंटर पर आने वाले एचआईवी पॉजिटिव की शादी का यह पहला मामला नहीं है. एआरटी सेंटर पर आने वालों एचआईवी पॉजिटिव की पहले भी करीब 10 से अधिक शादियां हो चुकी हैं. जो आज अपनी खुशहाल जीवन बिता रहे हैं.

====

एआरटी सेंटर पर आने वालों से एक फार्म फिल कराया जाता है. जिसमें वह अपनी जानकारी फिल कर देते हैं. शादी के लिए वह आपस में ही बात करके सहमति बनाते हैं.

मनोज वर्मा, डाटा मैनेजर एआरटी सेंटर