देहरादून.

सड़क से खरीदा जा रहा नशा हुक्का बार तक पहुंच रहा है. बिंदाल पुल और उसके आसपास से युवा नशे की पुडि़या खरीदकर हुक्का बारों में छल्ले उड़ा रहे हैं. शहरभर में अवैध तरीके से चलने वाले इन हुक्का बारों पर प्रशासन और पुलिस का कोई नियंत्रण नहीं है.

किया था खुलासा

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट टीम ने बिंदाल से नशे की पुडि़या खरीदकर खुलासा किया गया था कि किस तरह से यहां मलिन बस्ती के बच्चे और लड़कियां शाम को नशे पुडि़या का बाजार सजाते हैं. नशे केखरीदारों को पता होता है कि उन्हें पुडि़या कहां मिलेगी. यहां युवाओं को खूब जमावड़ा होता है.

अवैध तरीके चल रहे हुक्का बार

शहर में ज्यादातर हुक्का बार अवैध तरीके से चल रहे हैं. कहीं कहीं इन्हें बेसमेंट में चलाया जा रहा है तो कहीं रेस्टोरेंट के भीतर किसी हाल में. आमतौर पर यहां किसी भी समय युवाओं को धुआं उड़ाते देखा जा सकता है, लेकिन शाम को इन बार में आने वालों की संख्या बढ़ जाती है. कई बार तो स्कूल ड्रेस में भी बच्चे इन बार में नजर आते हैं.

नहीं होता नियमों का पालन

हुक्का बार के लिये लाइसेंस का प्रावधान नहीं है, यदि किसी को चलाना भी हो तो इसके लिए कुछ नियम तय किये गये हैं, लेकिन शहर में हु़क्का बार चलाने वाले इन नियमों का पालन करना जरूरी नहीं समझते. कई बार में इन हुक्का बारों में शराब तक परोसी जाती है.

ये हैं नियम

- 18 वर्ष से कम उम्र वालों के लिए प्रतिबंधित

सिगरेट, गुटखा, पान, तंबाकू, बीयर, शराब का इस्तेमाल नहीं हो सकता.

-सिगरेट, बीड़ी, तम्बाकू, गुटखा आदि का प्रयोग प्रतिबंधित.

- किसी भी तरह से शोर शराब, तेज संगीत आदि पर पाबंदी.

अवैध रूप से चलने वाले हुक्का बारों पर पुलिस कार्रवाई करती है. जब भी पुलिस को प्रशासन की आवश्यकता होती है तो हमारी ओर से आवश्यक कार्रवाई की जाती है.

अरविंद कुमार पांडेय, एडीएम प्रशासन