क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: राजधानी में लगातार हो रही बारिश से पूरा शहर अस्त-व्यस्त हो गया है. एक तरफ कई इलाकों में लोग वाटरलॉगिंग की समस्या से जूझ रहे हैं तो दूसरी ओर बारिश ने कुछ लोगों का आशियाना ही छीन लिया है. सीएम आवास से महज कुछ दूरी पर ही एक घर ढह गया. ऐसे में पूरा परिवार रात से ही टूटी दीवारों पर समय काट रहा है. वहीं एक दर्जन से अधिक परिवार घरों में कैद हो गए हैं. पानी की निकासी नहीं होने के कारण घर से निकलना भी मुश्किल हो गया है. घर ढह जाने से न्यू पुलिस लाइन के पास लोग इतने डर गए हैं कि अपने ही घरों में रहने से कतरा रहे हैं.

पानी में डूबा रोड, गढ्डे बढ़े

बारिश की वजह से शहर के कई इलाकों में पानी जमा हो गया है. बूटी से बरियातू जाने वाली सड़क में एक तरफ रोड डूब गया है. वहीं बारिश के कारण सड़कों पर जगह-जगह गढ्डे हो गए है. स्थिति यह है कि बारिश के वक्त रोड तो दिखाई ही नहीं दे रहा. इस वजह से कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है.

नालियों से नहीं बह रहा पानी

सफाई नहीं होने के कारण सिटी की नालियां जाम हो गई है. पहले से ओवर फ्लो नालियों में बारिश का पानी नहीं बह रहा है, इस वजह से कई इलाकों में लोगों का घरों से निकलना भी मुश्किल हो गया है. कंप्लेन करने के बाद निगम वालों ने सफाई तो शुरू की लेकिन कचरा निकालकर वहीं छोड़ दिया. अब बारिश होने से कचरा फिर से नाली में चला जाएगा.

मेयर के आदेश को भी गंभीरता से नहीं लिया

रांची नगर निगम में बोर्ड मीटिंग के दौरान मेयर ने वाटरलॉगिंग वाले इलाकों को चिन्हित करने का आदेश दिया था. वहीं पार्षदों ने भी सवाल उठाया था कि जल जमाव के कारण लोग परेशान है. इस समस्या का तत्काल समाधान करने की जरूरत है. इसके बावजूद नगर निगम की टीम ने न तो वाटरलॉगिंग वाली जगहों को चिन्हित किया और न ही समस्या को दूर करने का प्रयास किया गया. अब पब्लिक को सारी परेशानी झेलनी पड़ रही है.