दूसरे दलों के रहमोकरम पर टेरीजा मे ने बनाई है सरकार
लंदन (रॉयटर्स)।
ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरीजा मे को ब्रेक्जिट मामले में ब्रिटिश संसद के ऊपरी सदन से झटका लगा है। दरअसल, सांसदों ने 235 के मुकाबले 354 वोटों से प्लान को नामंजूर कर दिया, जिसके तहत सरकार को ब्रुसेल्स से बात करनी थी। टेरीजा मे ने आम चुनाव में यूरोपियन यूनियन से ब्रिटेन को बाहर लाने के वायदे पर चुनाव लड़ा था। नतीजे अप्रत्याशित थे और उन्हें हार का सामना करना पड़ा। बता दें कि फिलहाल उनकी सरकार दूसरे दलों के रहमोकरम पर है। ब्रेक्जिट से बाहर आने के फैसले पर सरकार अडिग है और वह संसद से इस पर स्वीकृति लेकर अपने कदम आगे बढ़ाना चाहती है।

अब निचले सदन में पेश किया जाएगा प्रस्ताव
बता दें कि टेरीजा मे ने सोमवार को अपना प्लान सदन में पेश किया, लेकिन उसमें झटका लग गया। अब मे की ताकत का पता बुधवार को तब चलेगा जब इस आशय का प्रस्ताव निचले सदन में पेश किया जाएगा। सरकार को सदन में तगड़ा झटका तब लगा जब अपनी ही पार्टी के सांसदों ने इस प्लान का खुले तौर पर विरोध किया। मे के मंत्रियों की तरफ से सारे घटनाक्रम पर खेद जताया गया। उनकी संसद से अपील थी कि सरकार को ब्रेक्जिट मामले में नियम तय करने का अधिकार मिले।

आगे ज्यादा मुश्किलों का करना पड़ सकता है सामना
हालांकि ऊपरी सदन ने सोमवार को संकेत दिया कि सांसद इस अहम मामले में सारे कायदे तय करने का अधिकार अपने पास रखना चाहते हैं। सोमवार को हुए घटनाक्रम से यह साफ हो गया कि टेरीजा मे को आने वाले दिनों में और ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। आने वाले दिनों में बे्रक्जिट से जुड़े कई प्रस्ताव अभी संसद में पेश होने हैं।

यूके में ICICI बैंक एशियन बिजनेस बैंक ऑफ द ईयर और हिंदुजा परिवार लगातार 5वें साल सबसे धनी एशियाई

व्‍हाट्सएप ब्रिटिश यूजर्स का पर्सनल डाटा फेसबुक के साथ साझा नहीं कर सकेगा

International News inextlive from World News Desk