20

लाख लीटर के दो बूस्टिंग स्टेशन हैं यहां

02

ट्यूबवेल से भरा जाता है इसमें पानी

5000

हजारों को की जाती है पेयजल की आपूर्ति

भारद्वाज बूस्टिंग स्टेशन प्रिमाइस में टावर लगाने का शुरू हुआ विरोध

अंडरग्राउण्ड टैंक से हजारों घरों में होती है पेयजल आपूर्ति

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: भारद्वाज पार्क के पीछे स्थित जलकल विभाग के भारद्वाज बूस्टिंग स्टेशन में एक प्राइवेट कंपनी द्वारा टॉवर लगा दिया गया है. इसका पार्षद के साथ ही अन्य लोग विरोध कर रहे हैं. कारण कि जहां टॉवर लगा है, वह रिस्ट्रिक्टेड एरिया है. वहां किसी भी व्यक्ति का आना-जाना मना है, क्योंकि बूस्टिंग स्टेशन एरिया में जहां पाइप लाइन का जाल बिछा है, वहीं 20-20 लाख लीटर के दो अंडर ग्राउण्ड वाटर टैंक बने हैं. इनके जरिये पांच हजार से अधिक घरों में वाटर की सप्लाई होती है.

कुछ दिन पहले तोड़ी थी पाइप लाइन

कर्नलगंज वार्ड के पार्षद आनंद घिल्डियाल के साथ ही लोगों का कहना है कि अभी कुछ दिन पहले बूस्टिंग स्टेशन एरिया में प्राइवेट कंपनी का टॉवर लगाया गया. इसका पॉवर कनेक्शन करने के लिए जमीन खोदते समय पाइप लाइन टूटी थी. इससे सैकड़ो घरों में पेयजल आपूर्ति ठप हो गई थी. मामला बढ़ा तो कंपनी ने मशीन हटा दी, लेकिन टॉवर अब भी खड़ा है.

टैंक से होती है पेयजल आपूर्ति

बूस्टिंग स्टेशन में स्थापित 20-20 लाख लीटर के अंडर ग्राउण्ड वाटर टैंक से फतेहपुर बिछुआ, टैगोर टाउन, सांसद आवास के पास, विकलांग केंद्र के ऊपर, कर्नलगंज में और बूस्टिंग स्टेशन के आस-पास लगे दो ट्यूबवेल का पानी भरा जाता है. पानी भरने के बाद बूस्टिंग पंप के जरिए प्रेशर बनाकर टैंक में भरे पानी की आपूर्ति की जाती है. इन लैक पाइप और आउट लैक पाइप का जाल बूस्टिंग पंप स्टेशन में बिछा हुआ है.

भारद्वाज बूस्टिंग स्टेशन कैंपस में प्राइवेट कंपनी का टॉवर लगाने का परमिशन देना, हजारों लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ जैसा है. रिस्ट्रिक्टेड एरिया में बाहरी लोगों का आना-जाना नहीं होना चाहिए. बगैर परमिशन के ये काम हो रहा है तो इससे बड़ी लापरवाही कुछ और नहीं हो सकती है.

आनंद घिल्डियाल

पार्षद, कर्नलगंज