कत्ल के लिए ही बुना गया था प्रेम जाल

कारोबारी की हत्या में आरोपी पत्‍‌नी ने रोंगटे खड़ा कर देने वाला खुलासा

पुलिस ने आरोपी पत्‍‌नी समेत तीन को पकड़ा, एक अभी भी फरार

MEERUT : डिफेंस कॉलोनी से 25 नवंबर को गायब राजेश अहलूवालिया का उसी दिन खुर्जा के जंगलों मर्डर कर दिया गया था। वजह चार करोड़ की प्रापर्टी। हत्या के आरोप में पुलिस ने पत्‍‌नी नीलांजना, उसकी सहेली सलोनी, हत्यारोपी राशिद को गिरफ्तार कर लिया है जबकि एक अन्य आरोपी साबिर अभी फरार है। एसएसपी ने पुलिस टीम को 25 हजार रुपए इनाम देने की घोषणा की है।

दिल्ली में बनी साजिश

एसएसपी अखिलेश कुमार ने कारोबारी हत्याकांड का राजफाश किया। आरोपी पत्‍‌नी नीलांजना से पूछताछ के आधार पर उन्होंने बताया कि दिल्ली के साकेत क्षेत्र में रहते हुए नीलांजना की मुलाकात सलोनी उर्फ शबाना पत्‍‌नी फरमूद अली से हुई। पति राजेश की प्रताड़ना से परेशान नीलांजना घर-वार छोड़कर दिल्ली रहने को मजबूर थी तो वहीं सलोनी ने उसके हालात भांपकर नजदीकी बढ़ा ली। उसने यह भी भांप लिया कि नीलांजना के पास दौलत की कमी नहीं है, बस रास्ते का रोड़ा उसका पति ही है। यहां पर बना हत्या का प्लान। सलोनी के संपर्क काम आए। खुर्जा निवासी युवक राशिद इस काम के लिए तैयार हो गया। सुपारी की रकम तय हुई 25 लाख।

सहेली बनीं प्रेमिका

नीलांजना ने पति राजेश को हनी ट्रैप में फंसाया। सलोनी को उसका नंबर दिया जो लगातार व्हाट्सएप पर राजेश के संपर्क में रहने लगी। पूरी तरह से प्रेमजाल में फंसने के बाद सलोनी ने 25 नवंबर को राजेश को मिलने के लिए हापुड़ बुलाया। राजेश वहां पहुंचे और दोनों कार से घूमने के लिए खुर्जा की ओर रवाना हो गए। वहां सलोनी ने राजेश की मुलाकात हत्यारोपी खुर्जा निवासी राशिद और साबिर से कराई। ये दोनों भी उनकी कार में सवार हो गए। गन प्वाइंट पर हत्यारोपी राजेश को खुर्जा देहात क्षेत्र के जंगलों में ले गए और गला काटकर हत्या कर दी।

मेरठ में खड़ी की कार

हत्याकांड को अंजाम देने के बाद हापुड़ रोड पर बिजली बंबा बाईपास के समीप सलोनी और राशिद ने राजेश की कार खड़ी करके पूरे घटनाक्रम को किडनैपिंग में बदलने की कोशिश। अगले दिन 26 नवंबर को दोनों ने दिल्ली में नीलांजना को हत्या के सबूत, गंगानगर स्थित मकान और गाड़ी की चाभी सौंप दी। घटना की जानकारी के बाद नीलांजना, बच्चों के साथ गंगानगर आ गई और पुलिस को किडनैपिंग की कहानी सुनाई।

पति पर लगाए आरोप

पुलिस को नीलांजना ने बताया कि राजेश उसके साथ मारपीट करता था, शादी के बाद 39 साल बाद भी वह बच्चों के साथ बेघर थी और दिल्ली में एक किराए के मकान में रह रही थी। प्रॉपर्टी हाथ से खिसकती देख नीलांजना ने यह प्लानिंग की।

व्हाट्सएप चैटिंग से पकड़ा

पुलिस ने सर्विलांस के जरिए सलोनी का नंबर हासिल किया। व्हाट्सएप चैटिंग की जानकारी के बाद पुलिस ने उसके नंबर को रडार पर लिया। इधर 26 नवंबर को पेट्रोल पंप के सीसीटीवी फुटेज में कारोबारी की कार से पुलिस को सलोनी और राशिद उतरते हुए दिखे। पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो आरोपियों ने गुनाह कबूल कर लिया।