- जीआरपी इंस्पेक्टर की बहन के मर्डर का मामला, 24 घंटे के भीतर ही पर्दाफाश

- रात 12.30 बजे ही कर दी गई थी हत्या, बट्टे से की थी वारदात

- हत्या को लूटपाट की शक्ल देकर मिटाए सबूत, मार्निग वॉक की बात कह पुलिस को गुमराह कर रहा था सुनील

GORAKHPUR: हर साल तीज पर जो पत्नी पति की लंबी उम्र मांगा करती थी, उसी पति ने तीज से ठीक एक दिन पहले बेरहमी से उसकी जान ले ली. तिवारीपुर एरिया के सूर्य विहार कॉलोनी में ब्यूटी पार्लर चलाने वाली रेनू सिंह की हत्या उन्हीं के पति सुनील सिंह ने की थी. हत्या के 24 घंटे के भीतर ही हुए इस सनसनीखेज खुलासे ने सभी को चौंका दिया. जीआरपी इंस्पेक्टर अजित सिंह की बहन और ब्यूटी पार्लर संचालिका रेनू सिंह के हत्यारोपी पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ में सुनील ने बताया कि वह आर्थिक तंगी से जूझ रहा था. मंगलवार रात इसी बात को लेकर पत्नी ने ताना मारा था. विवाद होने पर उसने पत्नी पर सील के बट्टे से प्रहार कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई. भोर में साढ़े तीन बजे के करीब झोले में बट्टे को ले जाकर ओवरब्रिज के पास फेंक दिया था. कॉलोनी के घरों में लगे सीसीटीवी कैमरों में सुनील की तस्वीर भी कैद हो गई थी. खुद को बचाने के लिए सुनील से घर का सामान बिखेर कर लूट दिखाने की कोशिश की थी.

शुरू से था करीबी पर शक

एसएसपी शलभ माथुर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर घटना का पर्दाफाश किया. उन्होंने बताया कि जांच के दौरान ही पुलिस को करीबी पर संदेह हो गया था. फिर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में घटना का समय साढ़े बारह बजे के करीब आना और सीसीटीवी कैमरे में सुनील का झोला लेकर जाना आदि ऐसे तथ्य थे जिस पर पति पर संदेह हो गया. रेनू के अंतिम संस्कार के बाद सुनील को संदेह के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने गुनाह कबूल कर लिया. सुनील की निशानदेही पर सील का बट्टा भी बरामद हो गया है. पुलिस को सुनील ने बताया कि रात में पत्‍‌नी ने उल्टी की थी. तबीयत खराब होने पर पत्‍‌नी से बहन के घर से गाड़ी मंगाने की बात कही तो पत्‍‌नी ने कहा कि तुम खुद कुछ नहीं कमा पाते हो. इसी बात पर विवाद हुआ और फिर पत्‍‌नी ने खुद को बट्टा से मारना शुरू किया. गुस्से में सुनील ने बट्टा छीनकर मार दिया जिससे उसकी मौत हो गई.

सीसीटीवी फुटेज ने खोल दी पोल

पुलिस ने रेनू सिंह के हत्या की गुत्थी सुलझाने के क्रम में कॉलोनियों में लगे विभिन्न सीसीटीवी फुटेज खंगाला. करीब 3.27 बजे सीसीटीवी फुटेज में मृतका का पति सुनील सिंह एक झोले में बट्टा और ब्लड से सना कपड़ा लेकर जाते दिखा. ये सभी साक्ष्य मृतका के पति द्वारा ही मर्डर करने की तरफ इशारा कर रहे थे. इसके बाद पुलिस ने मृतका के पति की तलाश की तो वह घर पर मिला जहां से संदेह के आधार पर गिरफ्तार कर लिया गया. मृतिका रेनू सिंह के भाई इंस्पेक्टर अजित सिंह के सामने ही पुलिस ने पति सुनील सिंह से पूछताछ की. इस दौरान सुनील ने पूरी घटना कबूल कर ली.

मैंने ही पत्नी को मार डाला

पुलिस की पुछताछ में अभियुक्त सुनील सिंह ने बताया कि पत्नी की काफी समय से तबियत खराब थी. रात में इलाज कराने के लिए पैसे की डिमांड पर तकरार हो गई. पत्‍‌नी स्वयं ही बट्टा से अपने शरीर पर प्रहार करने लगी. समझाने का प्रयास किया लेकिन वह नहीं मानी. इससे क्षुब्ध होकर बट्टा छीनकर सिर के पीछे प्रहार कर मौत के घाट उतार दिया. इसके बाद दीवार और फर्श पर लगे खून के छींटों का साफ करने के बाद कपड़ों को एक झोले में रख नाले में फेंक दिया. पुलिस ने मौके से बट्टा और खून से सना कपड़ा बरामद किया. इसके बाद अभियुक्त को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

गिरफ्तार करने वाली टीम

इंस्पेक्टर रामभवन यादव तिवारीपुर, उप निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह सहजनवा, मनोज दूबे, अविनाश यादव, स्वॉट टीम विपेंद्र मल्ल, राजमंगल सिंह, शशिकांत राय, रशिद अख्तर खां, सनातन सिंह, मोहसिन खां, शिवानंद उपाध्याय, कुतुबुदीन, राकेश यादव, विजय प्रकाश द्विवेदी.