कानपुर। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप 2019 की दो फाइनलिस्ट टीमें मिल गईं। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच रविवार को लाॅर्ड्स मैदान पर खिताबी मुकाबला खेला जाएगा। बता दें विश्वकप इतिहास में यह 12वां फाइनल मैच होगा। इसमें सबसे चर्चित फाइनल 1996 का रहा जिसमें वो शख्स मैच रेफरी बना था जो कभी बतौर खिलाड़ी फाइनल खेला था। हम बात कर रहे हैं पूर्व वेस्टइंडीज क्रिकेटर क्लाइव लाॅयड की। विंडीज टीम के महान कप्तान क्लाइव ने अपने देश के लिए वर्ल्डकप फाइनल में कप्तानी की थी। यही नहीं 1996 वर्ल्डकप में ऑस्ट्रेलिया बनाम श्रीलंका मैच में वह मैच रेफरी भी रहे।
icc world cup 2019 : वो इकलौता शख्स,जो वर्ल्डकप फाइनल में खिलाड़ी भी रहा और रेफरी भी
क्लाइव लाॅयड ने दो बार जीता विश्वकप
वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम को पहला वर्ल्डकप दिलाने वाले क्लाइव लाॅयड ही थे। क्रिकेट वर्ल्ड कप की शुरुआत 1975 में हुई थी, इसे 'प्रुडेंशियल कप' का नाम दिया गया। सीमित ओवरों का यह पहला सबसे बड़ा क्रिकेट टूर्नामेंट था। इसमें आठ टीमों (ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, श्रीलंका और ईस्ट अफ्रीका) ने हिस्सा लिया। उस वक्त विंडीज टीम का डंका बजता था और इसे सच साबित किया क्लाइव लाॅयड ने। लाॅयड की कप्तानी में विंडीज ने पहला विश्वकप अपने नाम किया। यही नहीं 1979 में खेले गए दूसरे वर्ल्डकप में भी लाॅयड की टीम चैंपियन बनी थी।

ICC World Cup 2019 : कैसे बनती है क्रिकेट वर्ल्डकप ट्राॅफी

ICC World Cup 2019 : कौन है वर्ल्डकप फाइनल में शतक लगाकर हारने वाला इकलौता खिलाड़ी

भारत ने रोका था लाॅयड का विजयरथ
विश्वकप इतिहास के शुरुआती दो सीजन जीतने के बाद सभी टीमों में वेस्टइंडीज का खौफ सा बैठ गया था। हर किसी को लगा कि विंडीज से जीत पाना असंभव है। अब बारी थी 1983 में खेले गए तीसरे विश्वकप की, इस टूर्नामेंट में कैरेबियाई खिलाड़ियों ने अपने शानदार प्रदर्शन के बूते फाइनल का टिकट कटाया। खिताबी मुकाबला वेस्टइंडीज बनाम भारत के बीच खेला गया, उस वक्त भारत को वर्ल्डकप का दावेदार नहीं माना जाता था। सभी को लगा कि क्लाइव भारतीय टीम को हराकर वर्ल्डकप जीत की हैट्रिक लगा देंगे मगर कपिल देव की अगुआई में टीम इंडिया ने बड़ा उलटफेर करते हुए विंडीज को 43 रन से हराकर उनका विजयरथ रोक दिया।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk