कानपुर। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप 2019 का खिताबी मुकाबला न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड के बीच खेला जा रहा। इस मैच में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने टाॅस जीतकर पहले बल्लेबाजी का निर्णय लिया। हालांकि उनके इस डिसीजन पर इंग्लिश गेंदबाजों ने पानी फेर दिया। विलियमसन को लगा कि उनकी टीम एक बड़ा स्कोर खड़ा करके इंग्लैंड पर दबाव बनाएगी मगर इंग्लिश गेंदबाजों ने तूफानी गेंदबाजी कर कीवियों के होश उड़ा दिए।

मार्क वुड ने फेंकी सबसे तेज गेंद
इंग्लैंड की तरफ से सबसे तूफानी गेंदबाजी माॅर्क वुड ने की। दाएं हाथ के तेज गेंदबाज मार्क वुड ने फाइनल में टूर्नामेंट की सबसे तेज गेंद फेंकी। वुड ने एक गेंद तो 154 किमी/घं की स्पीड से फेंकी। बता दें विश्वकप में यह अभी तक हाईएस्ट स्पीड है। वुड से पहले इसी विश्वकप में ऑस्ट्रेलियाई पेसर मिचेल स्टाॅर्क और इंग्लिश गेंदबाज जोफ्रा आर्चर भी इसी स्पीड से गेंद फेंक चुके हैं।


करीब 100 गेंदों बाद आई बाउंड्री
इंग्लैंड ने फाइनल में काफी अच्छी गेंदबाजी की, जिसके चलते न्यूजीलैंड के बल्लेबाज दबाव में रहे। एक वक्त तो ऐसा आया जब बाउंड्री का सूखा सा पड़ गया। 20वें ओवर से लेकर 35वें ओवर तक न्यूजीलैंड का कोई भी बल्लेबाज चौका नहीं लगा पाया। वो तो जिमी नीशम ने 36वें ओवर की आखिरी तीन गेंदों पर दो चौके जड़कर हिसाब पूरा किया।


वर्ल्डकप में न्यूजीलैंड रहा है हावी
वर्ल्डकप इतिहास में न्यूजीलैंड बनाम इंग्लैंड के बीच कुल नौ मुकाबले खेले गए जिसमें कीवियों को पांच मैचों में तो अंग्रेजों को सिर्फ चार बार जीत नसीब हुई। बता दें इस विश्वकप में इंग्लैंड राउंड राॅबिन में न्यूजीलैंड को 119 रनों से हरा चुका है।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk