कानपुर। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्डकप 2019 की दो फाइनलिस्ट टीमें मिल गईं। 14 जुलाई को इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड के बीच खिताबी मुकाबला होगा। जो भी टीम यह मैच जीतेगी वह पहली बार वर्ल्डकप ट्राॅफी उठाएगी। बता दें विश्वकप इतिहास में अभी तक 11 फाइनल खेले गए हैं जिसमें सिर्फ एक बार ऐसा हुआ जब किसी खिलाड़ी ने शतक लगाया हो और उसकी टीम हार गई। जी हां हम बात कर रहे 2011 विश्वकप फाइनल की जिसमें भारत ने श्रीलंका को छह विकेट से हराकर खिताब जीता था। इस मैच में श्रीलंका की तरफ से महेला जयर्वद्घने ने नाबाद 103 रन की पारी खेली थी। मगर उनका ये शतक टीम को जीत नहीं दिला पाया। इसी के साथ वह फाइनल में शतक लगाकर हारने वाला इकलौते खिलाड़ी
बन गए।

रूट बनाम विलियमसन के बीच होगी टक्कर
इस वर्ल्डकप फाइनल में दो दिग्गज बल्लेबाजों के बीच टक्कर होगी। एक तरफ होंगे इंग्लैंड के जो रूट तो सामने होंगे कूल केन विलियमसन। इन दोनों बल्लेबाजों के ऊपर अपनी-अपनी टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाने की जिम्मेदारी होगी। मौजूदा वर्ल्डकप में रूट और विलियमसन का बल्ला जमकर बोला है। दोनों हाईएस्ट रन स्कोरर की लिस्ट में टाॅप 5 में शामिल हैं। रूट जहां 549 रनों के साथ चौथे पायादान पर हैं वहीं विलियमसन 548 रनों के साथ पांचवें स्थान पर हैं। इन दोनों के बीच मात्र एक रन का फासला है, अब देखना होगा खिताबी मुकाबले में कौन बाजी मारता है।

ICC World Cup 2019 : कैसे बनती है क्रिकेट वर्ल्डकप ट्राॅफी


पहली बार बनेंगे विश्व चैंपियन

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के खाते में आज तक कोई वर्ल्डकप खिताब नहीं आया है। दोनों टीमें पिछले 11 विश्वकप से हिस्सा ले रही हैं मगर कभी फाइनल में जीत का स्वाद नहीं चख पाए। इंग्लिश टीम जहां 27 साल बाद फाइनल में पहुंची है वहीं कीवियों ने पिछले 44 साल के वर्ल्डकप इतिहास में दूसरी बार वर्ल्डकप फाइनल में जगह बनाई। हालांकि अब दोनों में किसी एक का विश्व चैंपियन बनने का सपना पूरा हो जाएगा और दुनिया को क्रिकेट जगत का नया चैंपियन मिलेगा।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk