- प्रशासनिक कार्रवाई से आक्रोशित हुआ कैंपस

- नहीं चली क्लास लेकिन चलता रहा मीटिंगों का दौर

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: रैगिंग को लेकर हुई कार्रवाई मामले में आईईआरटी और जिला प्रशासन आमने-सामने आ गए हैं. बुधवार को टीचर-कर्मचारियों ने कामकाज ठप कर दिया तो छात्रों ने क्लास अटेंड नहीं की. ये सभी प्रशासनिक कार्रवाई को वापस लिए जाने की मांग कर रहे थे. जिसको लेकर दिनभर कैंपस में अफरातफरी का माहौल बना रहा. देर शाम सभी ने संस्थान के डायरेक्टर के साथ मीटिंग कर अपनी बात रखी.

सुबह से ही गर्म रहा कैंपस का माहौल

रैगिंग को लेकर कमिश्नर बादल चटर्जी द्वारा की गई ताबड़तोड़ कार्रवाई से आईईआरटी की नींव हिल गई है. पहले पांच छात्र-छात्राओं का निष्कासन किया गया और मंगलवार को संस्थान के चीफ वार्डेन को निलंबित कर दस टीचर-कर्मचारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि थमा दी गई. इससे आक्रोशित संस्थान के स्टाफ ने बुधवार को कामकाज ठप कर दिया. वह धरने पर बैठ गए. वहीं छात्रों ने भी अपने साथियों के समर्थन में प्रदर्शन किया. ये सभी प्रशासनिक कार्रवाई वापस लिए जाने की मांग कर रहे थे.

कमिश्नर से बात करेंगे डायरेक्टर

संस्थान में क्लासेज ठप हो जाने के बाद डायरेक्टर ने छात्रों और स्टाफ को समझाने की कोशिश की लेकिन बात नहीं बनी. शाम को कर्मचारी और टीचर बात करने को राजी हुए. डायरेक्टर विमल मिश्रा ने आश्वासन दिया कि वह छात्रों के निष्कासन और कर्मचारियों-टीचर के निलंबन व प्रतिकूल प्रविष्टि दिए जाने पर कमिश्नर से बात करेंगे. वह कमिश्नर से कार्रवाई वापस लिए जाने की अपील करेंगे. इसके बाद स्टाफ ने गुरुवार से काम पर लौटने की बात मान ली. छात्रों ने भी क्लास अटेंड करने का वादा किया.

नहीं करेंगे अतिरिक्त काम

उधर, आईईआरटी स्टाफ वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष महेंद्र सिंह ने बताया कि डायरेक्टर को ख्ब् सितंबर तक का समय दिया गया है. इस बीच अगर वह कमिश्नर से वार्ता करके कार्रवाई वापस कराते हैं तो ठीक है, वरना स्टाफ पूरी तरह से कार्य बहिष्कार करेगा. उन्होंने बताया कि ख्ब् सितंबर तक आईईआरटी के कर्मचारी और टीचर केवल अपना मूल काम ही करेंगे. प्राक्टर, डीएसडब्ल्यू, वार्डेन आदि कोई भी अतिरिक्त जिम्मेदारी नहीं निभाई जाएगी. धरने पर बैठे कर्मचारियों का कहना था कि प्रशासन ने एक तरफा कार्रवाई की है. उनके पक्ष को सुनने की कोशिश भी नहीं की गई.

सूचना पाकर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी

संस्थान का माहौल बिगड़ने की सूचना पर बुधवार सुबह अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम पुष्पराज सिंह आईईआरटी पहुंच गए थे. उन्होंने वहां जाकर डायरेक्टर से मुलाकात की और माहौल का जायजा लिया. इस दौरान पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई. अधिकारियों ने संस्थान के स्टाफ और छात्रों से विचार-विमर्श कर शांति बनाए रखने की अपील की. इसके अलावा पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी दिन भर संस्थान का हालचाल लेते रहे.