patna@inext.co.in

PATNA (4 Sept): एक साथ कई पैथोलॉजी और जांच सेंटर चलाने वाले डॉक्टरों की अब खैर नहीं. पकड़े गए तो डिग्री भी रद की जा सकती है. ऐसे डॉक्टरों की पड़ताल सरकार ने गोपनीय स्तर से शुरू कर दी है. जांच घरों से जानकारी जुटाने के बाद संबंधित डॉक्टरों को रडार पर लिया जाएगा. हाईकोर्ट की सख्ती को देखते हुए न तो सरकार कोई रिस्क लेना चाह रही है और न ही स्वास्थ्य विभाग इसमें कोई चूक कर रहा है.

ऐसे कर रहे हैं खेल

कई डॉक्टर ऐसे हैं जो पटना में बैठकर अन्य जिलों में पैथोलॉजी चला रहे है. सूत्रों की मानें तो पटना के मखनियां कुआं में ऐसे एक दर्जन से अधिक पैथोलॉजी और जांच सेंटर हैं जहां खुला खेल चल रहा है. सूत्रों का कहना है कि अगर सही से जांच की जाए तो बड़ा खुलासा हो सकता है.

डॉक्टर नहीं आते सामने

डॉक्टर सामने नहीं आते हैं. वह पैथोलॉजी से डील कर लेते हैं और फिर केवल सिग्नेचर से ही उनका मतलब रहता है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने स्टिंग ऑपरेशन में पहले ही इसका खुलासा कर दिया है. किस तरह से एक डॉक्टर कई पैथोलॉजी चला रहा है. इस खुलासे के बाद विभाग में हड़कंप मचा है और ऐसे डॉक्टरों की तलाश जारी है.

सख्ती ने उड़ाई नींद

हाईकोर्ट की सख्ती ने पैथोलॉजी सेंटर चलाने वालों के साथ विभाग की भी नींद उड़ा दी है. सरकार से लेकर विभाग तक इस मामले में एक्शन में है. एक तरफ जहां छापेमारी चल रही है वहीं दूसरी तरफ अवैध जांच घरों के खिलाफ कई प्लान तैयार किए जा रहे हैं. इसमें पुलिस की टीम के साथ मजिस्ट्रेट को भी शामिल किया जा रहा है.

जांच पड़ताल की जा रही है. अवैध रूप से जांच घर चलाने वालों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी. साथ ही इसमें संलिप्त लोगों पर भी कार्रवाई की जाएगी.

पीके झा, सिविल सर्जन

पटना